30 May 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, you souls have love for the one Father. The Father has taught you to have love for souls and not bodies.

Question: While you are making which effort does Maya create obstacles? What is the way to become a conqueror of Maya?
Answer: You make effort to remember the Father so that your sins can be burnt away. Therefore, it is in this remembrance that Maya creates obstacles. The Father, the Master, shows you ways to become a conqueror of Maya. Remember the Master with that recognition and you will remain happy and you will continue to make effort and do a lot of service, and you will then become a conqueror of Maya.

Song: Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort.

Essence for dharna:
1. Claim the kingdom by following shrimat. Give a handful of rice and claim a palace for 21 births. Accumulate an income for the future.
2. While living at home with your family, finish all your attachment to the old world and become completely pure. While doing everything, keep your intellect focused on the Father.

Blessing: May you take an injection of being bodiless to control your mind and become concentrated.
Nowadays, if someone is not able to be controlled and troubles others a lot or has gone crazy, he is given an injection to make him peaceful. In the same way, if your power of thought is not under your control, then take an injection of becoming bodiless. Your power of thought will not then cause unnecessary upheaval and will easily become concentrated. However, if you take back the reins of your intellect from the Father after giving them to Him, your mind will then make you work unnecessarily. Now become free from making any wasteful effort.

Slogan: By keeping your ancestor form in your awareness, have mercy for all souls.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – तुम आत्माओं का प्यार एक बाप से है, बाप ने तुम्हें आत्मा से प्यार करना सिखलाया है, शरीर से नहीं”
प्रश्न:- किस पुरूषार्थ में ही माया विघ्न डालती है? मायाजीत बनने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- तुम पुरूषार्थ करते हो कि हम बाप को याद करके अपने पापों को भस्म करें। तो इस याद में ही माया का विघ्न पड़ता है। बाप उस्ताद तुम्हें मायाजीत बनने की युक्ति बताते हैं। तुम उस्ताद को पहचान कर याद करो तो खुशी भी रहेगी, पुरूषार्थ भी करते रहेंगे और सर्विस भी खूब करेंगे। मायाजीत भी बन जायेंगे।
गीत:- इस पाप की दुनिया से……..
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) श्रीमत पर चल बादशाही लेनी है। चावल मुट्ठी दे 21 जन्मों के लिए महल लेने हैं। भविष्य के लिए कमाई जमा करनी है।
2) गृहस्थ व्यवहार में रहते इस पुरानी दुनिया से ममत्व मिटाकर पूरा पावन बनना है। सब कुछ करते बुद्धि बाप की तरफ लगी रहे।
वरदान:- अशरीरी पन के इन्जेक्शन द्वारा मन को कन्ट्रोल करने वाले एकाग्रचित्त भव
जैसे आजकल अगर कोई कन्ट्रोल में नहीं आता है, बहुत तंग करता है, उछलता है या पागल हो जाता है तो उनको ऐसा इन्जेक्शन लगा देते हैं जो वह शान्त हो जाए। ऐसे अगर संकल्प शक्ति आपके कन्ट्रोल में नहीं आती तो अशरीरीपन का इन्जेक्शन लगा दो। फिर संकल्प शक्ति व्यर्थ नहीं उछलेगी। सहज एकाग्रचित हो जायेंगे। लेकिन यदि बुद्धि की लगाम बाप को देकर फिर ले लेते हो तो मन व्यर्थ की मेहनत में डाल देता है। अब व्यर्थ की मेहनत से छूट जाओ।
स्लोगन:- अपने पूर्वज स्वरूप को स्मृति में रख सर्व आत्माओं पर रहम करो।

Comments

comments