30 June 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, in order to receive love from the Father, sit in soul consciousness. Remain in the happiness that you are receiving your inheritance of heaven from the Father.

Question: What incognito effort do you Brahmins make at the confluence age in order to change into angels?
Answer: You Brahmins have to make the incognito effort to remain pure. At the confluence age, you children of Brahma are brothers and sisters. Brothers and sisters cannot have impure vision for one another. Husband and wife, even while living together, consider yourselves to be a Brahma Kumar and Brahma Kumari. By having this awareness, you become completely pure and you then become angels.

Essence for dharna:
1. Churn the ocean of knowledge and speak on the topic of how Brahma becomes Vishnu. Keep your intellect busy churning knowledge.
2. In order to claim a royal status, together with having knowledge and yoga, also do the service of making others equal to you. Make your vision very pure.

Blessing: May you uplift even those who defame you, the same as the Father does and do service with good wishes.
Just as the Father uplifts those who defame Him, similarly, no matter what type of soul is in front of you, transform that soul with your attitude of mercy and your good wishes; this is true service. Just as scientists are able to make things grow in sand, similarly, be merciful and, with the power of silence, uplift those who defame you and transform the land. Any type of soul can be transformed by your self-transformation and your good wishes, because you having good wishes definitely enables you to achieve success.

Slogan: Churning knowledge is the basis of remaining constantly happy.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – बाप का प्यार लेना हो तो आत्म-अभिमानी होकर बैठो, बाप से हम स्वर्ग का वर्सा ले रहे हैं, इस खुशी में रहो”
प्रश्न:- संगमयुग पर तुम ब्राह्मण से फरिश्ता बनने के लिये कौन-सी गुप्त मेहनत करते हो?
उत्तर:- तुम ब्राह्मणों को पवित्र बनने की ही गुप्त मेहनत करनी पड़ती है। तुम ब्रह्मा के बच्चे संगम पर भाई-बहन हो, भाई-बहन की गन्दी दृष्टि रह नहीं सकती। स्त्री-पुरूष साथ रहते दोनों अपने को बी.के. समझते हो। इस स्मृति से जब पूरा पवित्र बनो तब फरिश्ता बन सकेंगे।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) विचार सागर मंथन कर “ब्रह्मा सो विष्णु” कैसे बनते हैं, इस टॉपिक पर सुनाना है। बुद्धि को ज्ञान मंथन में बिजी रखना है।
2) राजाई पद प्राप्त करने के लिए ज्ञान और योग के साथ-साथ आपसमान बनाने की सर्विस भी करनी है। अपनी दृष्टि बहुत शुद्ध बनानी है।
वरदान:- शुभ भावना से सेवा करने वाले बाप समान अपकारियों पर भी उपकारी भव
जैसे बाप अपकारियों पर उपकार करते हैं, ऐसे आपके सामने कैसी भी आत्मा हो लेकिन अपने रहम की वृत्ति से, शुभ भावना से उसे परिवर्तन कर दो-यही है सच्ची सेवा। जैसे साइन्स वाले रेत में भी खेती पैदा कर देते हैं ऐसे साइलेन्स की शक्ति से रहमदिल बन अपकारियों पर भी उपकार कर धरनी को परिवर्तन करो। स्व परिवर्तन से, शुभ भावना से कैसी भी आत्मा परिवर्तन हो जायेगी क्योंकि शुभ भावना सफलता अवश्य प्राप्त कराती है।
स्लोगन:- ज्ञान का सिमरण करना ही सदा हर्षित रहने का आधार है।

Comments

comments