09 September 2017 Murli

 

English

Essence: Sweet children, you are once again studying Raja Yoga. God is teaching you once again and you are studying in order to claim a kingdom. Constantly remember your aim and objective.

Question: What preparations are you children making now in great happiness?
Answer: You are now preparing to shed your old bodies in great happiness and return to the Father. You have to practise this here so that you can shed your bodies in remembrance of Baba alone and not have to choke at that time. Your student life is a carefree life. Therefore, become “choke-proof”.

Song: Hey traveller of the night, do not become weary! The destination of the dawn is not far off

Essence for dharna: 
1. In order to remain constantly healthy, prepare and eat food in remembrance. At the time of eating, let there be the consciousness of eating with Baba and that food will then be filled with strength.
2. In order to become a deity, blow the conch shell and continue to spin the discus of self-realization. Make your life as pure as a lotus flower.

Blessing: May you have pure and positive thoughts for others and transforms yourself by not worrying about the transformation of others.
To have self-transformation is to have pure and positive thoughts for others. If you forget the self and worry about the transformation of others, that is not having pure and positive thoughts. First is the self and then together with the self, are all others. If you do not transform yourself and have pure and positive thoughts for others, you cannot be successful. Therefore, by conducting yourself with discipline, transform yourself. There is only benefit in this. Even if you are unable to see any external benefit, internally you will continue to experience lightness and happiness.

Slogan: If you constantly have enthusiasm for service, small illnesses will become merged.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – तुम फिर से राजयोग सीख रहे हो, तुम्हें भगवान फिर से पढ़ाते हैं, तुम राजाई के लिए यह पढ़ाई पढ़ रहे हो, अपनी एम-आब्जेक्ट सदा याद रखो”
प्रश्न:- अभी तुम बच्चे कौन सी तैयारी बहुत खुशी से कर रहे हो?
उत्तर:- तुम अपना यह पुराना शरीर छोड़ बाप के पास जाने की तैयारी बहुत खुशी-खुशी से कर रहे हो। एक बाप की ही याद में शरीर छूटे, घुटका न खाना पड़े – ऐसी प्रैक्टिस यहाँ ही करनी है। तुम्हारी अभी स्टूडेन्ट लाइफ बेपरवाह लाइफ है, इसलिए घुटका प्रूफ बनना है।
गीत:- रात के राही……
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) सदा तन्दरूस्त रहने के लिए याद में रहकर भोजन बनाना वा खाना है। भोजन करते समय स्मृति रहे – हम बाबा के साथ खा रहे हैं तो भोजन में ताकत भर जायेगी।
2) देवता बनने के लिए शंखध्वनि करनी है। स्वदर्शन चक्र फिराते रहना है। कमल फूल समान पवित्र जीवन बनाना है।
वरदान:- दूसरों के परिवर्तन की चिंता छोड़ स्वयं का परिवर्तन करने वाले शुभ चिंतक भव
स्व परिवर्तन करना ही शुभ चिंतक बनना है। यदि स्व को भूल दूसरे के परिवर्तन की चिंता करते हो तो यह शुभचिंतन नहीं है। पहले स्व और स्व के साथ सर्व। यदि स्व का परिवर्तन नहीं करते और दूसरों के शुभ चिंतक बनते हो तो सफलता नहीं मिल सकती इसलिए स्वयं को कायदे प्रमाण चलाते हुए स्व का परिवर्तन करो, इसी में ही फायदा है। बाहर से कोई फायदा भल दिखाई न दे लेकिन अन्दर से हल्कापन और खुशी की अनुभूति होती रहेगी।
स्लोगन:- सेवाओं का सदा उमंग है तो छोटी-छोटी बीमारियां मर्ज हो जाती हैं।

Comments

comments