30 May 2016 Murli

English

Essence: Sweet children, charity begins at home. That is, first of all give knowledge to those who belong to the deity religion and who worship Shiva and the deities.

Question: What act of the Father can no human being carry out and why?
Answer: The act of establishing peace in the whole world is that of the Father alone. Human beings cannot establish peace in the world because all of them are vicious. Peace can only be established when they know the Father and become pure. Because of not knowing the Father, they have become orphans.

Song: To live in Your lane and to die in Your lane!

Essence for dharna:
1. Have true love for the one Father and become true Pandavas. Death is just ahead of you. Therefore, become pure and the masters of the pure world.
2. Conquer lust, the greatest enemy, which causes sorrow from its beginning, through the middle to the end and become pure. Remove the alloy of vices with remembrance and make the soul golden aged.

Blessing: May you be an image of support who remains double light while fulfilling the responsibility of the elevated task of world transformation.
Those who are images of support for souls are totally responsible for them. Now, wherever and in whatever way you set foot, all souls will follow you in the same way; this is your responsibility. However, this responsibility helps you a lot in creating your stage because you receive blessings from many souls through this by which your responsibility becomes light. This responsibility finishes your tiredness.

Slogan: Do service while keeping a balance of the head and the heart and you will receive success.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – चैरिटी बिगेन्स एट होम अर्थात् जो देवी देवता धर्म के हैं, शिव के वा देवताओं के पुजारी हैं, उन्हें पहले-पहले ज्ञान दो”
प्रश्न:- बाप का कौन सा कर्तव्य कोई भी मनुष्य नहीं कर सकते हैं और क्यों?
उत्तर:- सारे विश्व में शान्ति स्थापन करने का कर्तव्य एक बाप का है। मनुष्य, विश्व में शान्ति स्थापन नहीं कर सकते क्योंकि सब विकारी हैं। शान्ति की स्थापना तब हो जब बाप को जानें और पवित्र बनें। बाप को न जानने के कारण निधनके बन गये हैं।
गीत:- मरना तेरी गली में….
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) एक बाप से सच्ची प्रीत रख सच्चा-सच्चा पाण्डव बनना है। मौत सामने खड़ा है इसलिए पवित्र बन पवित्र दुनिया का मालिक बनना है।
2) काम महाशत्रु जो आदि-मध्य-अन्त दु:ख देता है, उस पर जीत प्राप्त कर पावन बनना है, याद से विकारों की खाद निकाल आत्मा को गोल्डन एजड बनाना है।
वरदान:- विश्व परिवर्तन के श्रेष्ठ कार्य की जिम्मेवारी निभाते हुए डबल लाइट रहने वाले आधारमूर्त भव
जो आधारमूर्त होते हैं उनके ऊपर ही सारी जिम्मेवारी रहती है। अभी आप जिस रूप से, जहाँ भी कदम उठायेंगे वैसे अनेक आत्मायें आपको फालो करेंगी, यह जिम्मेवारी है। लेकिन यह जिम्मेवारी अवस्था को बनाने में बहुत मदद करती है क्योंकि इससे अनेक आत्माओं की आशीर्वाद मिलती है, जिस कारण जिम्मेवारी हल्की हो जाती है, यह जिम्मेवारी थकावट मिटाने वाली है।
स्लोगन:- दिल और दिमाग दोनों का बैलेन्स रख सेवा करने से सफलता मिलती है।

Comments

comments