17 January 2016 Murli

https://www.youtube.com/watch?v=M1wwrQfobB0

English

Essence: Sweet children, in order to make the soul free from disease, study this spiritual study and enable others to do the same. Open a spiritual hospital.

Question: By having which one desire are all your other desires automatically fulfilled?
Answer: Simply have the desire to remember the Father and become ever healthy. If you fulfil the desire for knowledge and yoga, all your other desires will automatically be fulfilled. You children mustn’t have any bad habits. Be all-rounders. Although each one of you has weaknesses, you must definitely do service.

Song: Have patience o mind! Your days of happiness are about to come!

Essence for dharna:
1. Don’t be someone who loves to rest. Have a great interest in doing service. Spend your money on service alone. Create the lives of human beings and change them from thorns into flowers.
2. Always carry out constructive work, not anything destructive. Talk to yourself: Where am I going? What am I becoming?

Blessing: May you be seated on the heart-throne of Dilaram, the Comforter of Hearts, and remain constantly safe from any upheaval of Maya or matter.
The place to remain constantly safe is the heart-throne of the Father, the Comforter of Hearts. Always maintain the awareness: It is our elevated fortune to be seated on God’s heart-throne. Those who are merged in God’s heart or seated in His heart are constantly safe. Storms of Maya and matter cannot shake them. Achalghar is the memorial of those who remain that unshakeable, it is not the home that shakes. Therefore, have the awareness that you have become unshakeable many times and are also unshakeable now.

Slogan: To become an embodiment of knowledge and love is to put the teachings into practice.

Be an image of tapasya:
Sit on the seat of the tapaswi form, become stable in the stage of your elevated pride, your spiritual pride, and finish the adverse situations that distress people. With your pride, give distressed souls the blessing of peace and rest. Understand the stage of a lighthouse and might house and become stable in that form.

Hindi

17-01-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन
मुरली सारः- “मीठे बच्चे – आत्मा को निरोगी बनाने के लिए रूहानी स्टडी करो और कराओ, रूहानी हॉस्पिटल खोलो”
प्रश्न:- कौन सी एक आश रखने से बाकी सब आशायें स्वत: पूर्ण हो जाती हैं?
उत्तर:- सिर्फ बाप को याद कर एवरहेल्दी बनने की आश रखो। ज्ञान-योग की आश पूर्ण की तो बाकी सब आशायें स्वत: पूरी हो जायेंगी। बच्चों को कोई भी आदत नहीं रखनी है। आलराउन्डर बनना है। भल खामियां हर एक में हैं परन्तु सर्विस जरूर करनी है।
गीत:- धीरज धर मनुआ…
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) आराम-पसंद नहीं बनना है। सर्विस का बहुत-बहुत शौक रखना है। सर्विस में ही पैसे खर्च करने हैं। मनुष्यों की जीवन कांटे से फूल बनानी है।
2) सदैव कन्स्ट्रक्शन का काम ही करना है, डिस्ट्रक्शन का नहीं। अपने आपसे बातें करनी हैं। हम कहाँ जा रहे हैं! क्या बन रहे हैं!
वरदान:- माया और प्रकृति की हलचल से सदा सेफ रहने वाले दिलाराम के दिलतख्तनशीन भव
सदा सेफ रहने का स्थान-दिलाराम बाप का दिलतख्त है। सदा इसी स्मृति में रहो कि हमारा ही यह श्रेष्ठ भाग्य है जो भगवान के दिलतख्त-नशीन बन गये। जो परमात्म दिल में समाया हुआ अथवा दिलतख्तनशीन है वह सदा सेफ है। माया वा प्रकृति के तूफान उसे हिला नहीं सकते। ऐसे अचल रहने वालों का यादगार अचलघर है, चंचल घर नहीं। इसलिए स्मृति रहे कि हम अनेक बार अचल बने हैं और अभी भी अचल हैं।
स्लोगन:- ज्ञान स्वरूप, प्रेम स्वरूप बनना ही शिक्षाओं को स्वरूप में लाना है।
तपस्वी मूर्त बनो
तपस्वी स्वरूप के आसन पर बैठ अपनी श्रेष्ठ शान, रूहानी शान की स्थिति में स्थित हो अब लोगों को परेशान करने वाली परिस्थिति को समाप्त करो। अपनी शान से परेशान आत्माओं को शान्ति और चैन का वरदान दो। लाइट हाउस और माइट हाउस स्थिति को समझते हुए, उसी स्वरूप में स्थित हो जाओ।

Comments

comments