25 th April 2017 Murli

https://www.youtube.com/watch?v=earFMv3KQlA

English

Essence: Sweet children, you are karma yogis. Practise having remembrance while walking and moving around. Constantly remember the one Father and make effort to become Narayan from an ordinary human.

Question: What are the main signs of children who have faith in the intellect?
Answer: They have full love for the Father. They fully obey every one of the Father’s orders. Their intellects do not wander outside. They stay awake at night and remember the Father. They prepare food in remembrance.

Song: You wasted the night in sleeping and the day in eating.

Essence for dharna:
1. Have faith in the intellect and have full love for the Father. Follow the Father’s directions and conquer Maya.
2. While performing actions for the livelihood of your body, become karma yogis. Definitely create a chart of having eight hours’ remembrance.

Blessing: May you have an imperishable tilak and make your stage elevated by knowing the importance of your awareness.
On the path of devotion, there is importance given to the tilak. When they hand over a kingdom, a tilak is applied. The sign of suhaag (being wed) and of fortune too is a tilak. On the path of knowledge, there is a lot of importance given to the tilak of awareness. As is your awareness, so is your stage. If your awareness is elevated, your stage will also be elevated and this is why BapDada has given each of you children a tilak of the awareness of three things. The awareness of the self, the awareness of the Father and the awareness of the drama for performing elevated karma. The children who have this imperishable tilak, who put on the tilak of the awareness of these three things at amrit vela, always have an elevated stage.

Slogan: Always continue to think of good things and everything will become good.

Hindi

मुरली सारः- “मीठे बच्चे – तुम हो कर्मयोगी, तुम्हें चलते-फिरते याद का अभ्यास करना है, एक बाप के सिमरण में रह नर से नारायण बनने का पुरूषार्थ करो”
प्रश्न:- निश्चय बुद्धि बच्चों की मुख्य निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उनका बाप के साथ पूरा-पूरा लव होगा। बाप के हर फरमान को पूरा-पूरा पालन करेंगे। उनकी बुद्धि बाहर नहीं भटक सकती। वह रात को जागकर भी बाप को याद करेंगे। याद में रहकर भोजन बनायेंगे।
गीत:- तूने रात गँवाई सोके…..
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) निश्चय बुद्धि बन एक बाप से पूरा-पूरा लव रखना है। बाप के फरमान पर चल माया पर जीत पानी है।
2) शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करते, कर्मयोगी बनना है। याद का चार्ट 8 घण्टे तक जरूर बनाना है।
वरदान:- स्मृति के महत्व को जान अपनी श्रेष्ठ स्थिति बनाने वाले अविनाशी तिलकधारी भव
भक्ति मार्ग में तिलक का बहुत महत्व है। जब राज्य देते हैं तो तिलक लगाते हैं, सुहाग और भाग्य की निशानी भी तिलक है। ज्ञान मार्ग में फिर स्मृति के तिलक का बहुत महत्व है। जैसी स्मृति वैसी स्थिति होती है। अगर स्मृति श्रेष्ठ है तो स्थिति भी श्रेष्ठ होगी इसलिए बापदादा ने बच्चों को तीन स्मृतियों का तिलक दिया है। स्व की स्मृति, बाप की स्मृति और श्रेष्ठ कर्म के लिए ड्रामा की स्मृति – अमृतवेले इन तीनों स्मृतियों का तिलक लगाने वाले अविनाशी तिलकधारी बच्चों की स्थिति सदा श्रेष्ठ रहती है।
स्लोगन:- सदा अच्छा-अच्छा सोचते रहो तो सब अच्छा हो जायेगा।

 

Comments

comments