17 July 217 Murli

English

* 17-07-17 morning: Murli Om “Bāpadādā” Madhuban

*” the sweet child to leave double violence to become a double violence, unknown warriors will have to win the maya enemy.

* Praśnaḥ -* short mouth and big thing… what is the saying for whom and why famous?

* answer :-* this proverb is for divine. How can he tell you big things about this little mouth. Poor nivāza father sahukar you poor. You also say baby we are great warriors. We have to win the ravan on the whole world. So it was a small gesture. Man can’t understand these things. Who will not come to talk like you.

* Song :- finally he came the day today…*

* Ohm Peace. *

The children listened to the song and also understood the meaning of that which is called chose, he has come now. The Poor-Nivāza character is also with the chose-Holy. At this time the world is hell. Poor are too much. All the creation is poor. Don’t think of Russia, America Sahukar, not. Know what is a little bit of inhōṁ, he is nothing to do in the meeting of heaven. All the resources are collected, and there is nothing in the meeting of heaven. – writes China can buy this million pound gold. There is a lot of money. But you know the child who is going to be the capital or swaraj, which is going on. So all are poor. This whole world is poor in the meeting of heaven. This Father is the name of the poor-Nivāja. India was so rich in heaven. Visit is. Now, what condition. Father poor nivāza sitting in front of you and give you the versa of heaven. How much you know the father. How many sahukar are we maharaja How many high temples make in devotion. So Father’s poor name is so śōbhatā. He is the new world. This is the old world. Understand what the old world has become. Heaven is the store of happiness. No one is going to change the world of this grief. How to change. He still know you. No quarrel fight etc. The name of krishna has given the name of Krishna. There is no krishna to krishna the world. The world is called God palaṭānē. Now you understand what you have made us. We didn’t know anything. Barōbara The name is the golden edge, gold world. Dwarika also called to sleep. Dwarika, the whole city of gold. So it will be so much unfathomable money, children have also interview. Baba say as much as you will go forward. Come close to your country, comes in the heart that we’ll go on. You know this fight will definitely be the destruction of the old world. Like Delhi was old, now made new. You know this whole world is graveyard, then to be paristāna. Baba we are giving us the new world. Today is the day of india – which is the poor india from the father of heaven. New Delhi will not say all. New Delhi will say new delhi. Gandhiji said, or is still called RAM. Must explain, but ravan is the state. Say phalānā heaven padhārā. So he was in the hell, then went to heaven. Heaven will not say this letter. Like to remember heaven here is to remember the father. There are no dying people say hēvinalī abōḍa. Which religion does he reside in the hēvina? God opened father. You see how the simple way. The Secret of drama you know. The scene of the scene, then repeat the repeat. Then there will be repeated after 5 thousand years. Crucified of Christ crucified, past. This is history of world history, which will repeat again. Christian will not be religion, again will opened. No one else is in your mind except you. The Father says I came after 5 THOUSAND YEARS AFTER 5 years. Teacher will say we hear you the secret of the creation of the universe. This knowledge but God can not give any God. These things are not in the scriptures. This is a sense of understand. Christ will come after 3 thousand years. It has been 2 thousand years now, NOT 5 thousand years. But who sits in a sense of wisdom.

You know the child that again heaven is opened. No fight etc. Father in violence karāyēṅgē You are becoming double– by the father. Father said – work is mahāśatru. To win them, you will become the Lord of the holy world. Time, now he is. Sarakamasṭānśa are going to see. This Indian fight was also 5 thousand years ago. What then did you win? What was the result of kaurav khalas? Don’t do anything. Father came, the mahabharata began to fight, then what happened? Show that pandav dust died on the mountains. Dog has also given in. Don’t understand anything. How much a big wheel, how many religion. Your intelligence in the nutshell are the whole secret. You were a lot of money. So are so poor. Now man has grown too much. If you don’t understand, they don’t understand and speak. You know this too we are walking the best capital opened on Ms. – Kalpa first mu’āphika. He should be juniors. Gupt Unknown Warriors say na. You are really true unknown, but very well nōna. He said – an an warriors and the big man who went to a big man. How many well you have become. How many flowers will caṛhāyēṅgē on you, how many temples will make No one knows you right now. They are killed by gun-Baazi etc. You make india heaven, then you are going to be pirō in vishnu mala wa Rudra Garland. But they do not understand what shiva shakti did. Still don’t know what you are doing. You are so powerful warriors. Whose war is with you? With Ravana. Whom you will say we will laugh and laugh. Don’t say the little mouth. We are setting up heaven. Who is not going to do things like you The Father and how many things do come from this small mouth. He will say to Krishna, a small thing. But Krishna is short. The Child’s face must be small. The main thing is that it is called for divine. Baba is poor nivāza. How many sahukar and sahukar. Come in the old body. Even though you are poor, India is also poor, they are poor. You say baba will come to heaven and make heaven. Such a great from things. Say how will india make heaven? How can it be? College look how! Who is teaching! And how much are you above the post. Sitting you look how are you. Vanḍara hai na. Kalpa-Kalpa will be there. As soon as he comes from the beginning, the father will be repeated. Let them sit down. You don’t know your lives, I tell you. For those who will be sitting in the first place. Maya is not even less. In fact, the indeed of others still makes sense. And those who have been in doubt, then they are in their minds. We understand that the barōbara father has been wonderful, so it is said that God is not aware of God. How much money can the poor nivāza father. All the world are palaṭātē. Make them rijyūvanēṭa as kaya. How does your body become a pharsṭaklāsa. You think there are great age in barōbara satyug. One body left the second. Look at here, how are you. Fear of death. You also have an interview to children. If you go in the forest, there is an interview to them, it is the goddess. How much do they care for children. You and all the human fear. How much fear from black. Awful look. This is also an interview. No thief comes in front of the black look. How much they can protect. Who? From Ravana. You are device batalātē. They will remember the father, not even the name to come closer to the presence of God. You also race. When the race is also, they are also taking care of the they. Where don’t mess with a mess. You walk so ms., so father say remember me. Maya very choices thrust. There will never come forward. Just got buṛhā yet why do you come to such a resolution. Dreams will come too much. Not afraid of the storms of Maya. Work is never burning from fire. The Father explained, all this work is dead on the pyre of the sky. Ganda keep living. Knowledge have a gift to 4-5 children. In the papers there are many news. Baba tell you the news of all the world – what’s going on. From The Radio, it has also come to know where the fight is not! Now you know the child that we are very sahukar. The owner of heaven. The people are also sahukar there. For them there is no missing object, for which the invēnśana etc. Krishna is very sahukar, the living have any money, etc? Krishna is the master of vaikuṇṭha. You know how big our m object is. This Lakshmi-Narayan Barōbara was maharaja queen Not anymore. Now the father is making it. How many were poor, how many were sahukar. You know the history of these lakshmi-Nārāyāṇa. There will be a man who know his 84 lives? How much of you are able to get this lesson. That is one of the father. How many temples have they made. You will say we did the kingdom. How many of our temples are built. All day in these things should be joyful. * Nice!*

* Sweet-sweet sikīladhē children, remember and guḍamārniṅga. The Rouhani Father’s rouhani children namaste. *

* MAIN ESSENCE FOR CONCEPTION *

* 1)* is not afraid of the storm of Maya, remember the race. Remember the same chart. There is a means of safety.

* 2)* Ms. on we’re the best capital installation. We are an an (Secret) but very well-known warriors. This rouhani drunk is to live.

* Blessing :-* keep your best vision, living with work.

As if this body can’t live without śvānsa, such a brahmin is the śvānsa of life. As if the śvānsa are became on not running, it is not busy, if not busy in the soul service, it is became, so all the time, keep serving from work. Don’t get a chance to serve by speech. When all types of service will be able to take full marks.

* slogan :-* the throne of sākṣīpana is the throne of a real decision.

🌝

Hindi

*17-07-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन*

*”मीठे बच्चे -* डबल सिरताज बनने के लिए डबल हिंसा छोड़नी है, अननोन वारियर्स बन माया दुश्मन पर जीत पानी है”

*प्रश्नः-*छोटा मुख और बड़ी बात… यह कहावत किसके लिए और क्यों प्रसिद्ध है?

*उत्तर:-*यह कहावत परमात्मा के लिए है। कैसे वह साधारण तन में बैठ इस छोटे मुख से तुम्हें बड़ी-बड़ी बातें सुनाते हैं। गरीब निवाज़ बाप तुम्हें गरीब से साहूकार बना देते हैं। तुम बच्चे भी कहते हो हम जबरदस्त वारियर्स हैं। हम रावण पर जीत पाकर सारे विश्व पर स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। तो यह भी जैसे छोटा मुख बड़ी बात हुई। मनुष्य इन बातों को सुनकर हंसते हैं, समझ नहीं सकते। तुम्हारी जैसी बातें करना किसको आयेगा भी नहीं।

*गीत:-आखिर वह दिन आया आज…*

*ओम् शान्ति।*

बच्चों ने गीत सुना और अर्थ भी समझा, निश्चय भी बैठा कि जिसे पतित-पावन कहा जाता है, वह बाबा अब आया हुआ है। पतित-पावन के साथ गरीब-निवाज़ अक्षर भी आ जाता है। इस समय सारी दुनिया नर्क है। गरीब भी बहुत हैं। सारी सृष्टि ही गरीब है। ऐसा मत समझो रशिया, अमेरिका साहूकार हैं, नहीं। जानते हैं इन्हों के पास जो कुछ थोड़ा है, वह स्वर्ग की भेंट में कुछ भी नहीं है। भल सभी साधन, वैभव इकट्ठा किया जाए तो भी स्वर्ग की भेंट में कुछ नहीं। भल लिखते हैं चाइना इतना मिलियन पाउण्ड सोना खरीद सकते हैं। ऐसे तो अमेरिका भी बहुत साहूकार है। परन्तु तुम बच्चे जानते हो हमारी जो राजधानी अथवा स्वराज्य स्थापन हो रहा है, उनके आगे तो यह कुछ भी नहीं है। इतना सब होते भी गरीब हैं। स्वर्ग की भेंट में यह सारी विश्व ही गरीब है। इस बाप का नाम ही है गरीब-निवाज। भारत ही स्वर्ग में कितना धनवान था। भेंट की जाती है। अभी तो क्या हालत है। बाप गरीब निवाज़ तुम्हारे सामने बैठे हैं और तुमको स्वर्ग का वर्सा देने आये हैं। तुम जानते हो बाप हमको कितना साहूकार बनाते हैं। हम महाराजा महारानी कितने साहूकार होते हैं। भक्ति मार्ग में कितने आलीशान मन्दिर बनाते हैं। तो बाप का गरीब निवाज़ नाम तो शोभता है ना। वह है ही नई दुनिया। यह है पुरानी दुनिया। समझते हैं पुरानी दुनिया के मनुष्य क्या हो गये हैं। स्वर्ग तो सुख का भण्डार है। कोई तो इस दु:ख की दुनिया को बदलने वाला है ना। कैसे बदलते हैं। वह भी अभी तुम जानते हो। कोई झगड़ा लड़ाई आदि की बात नहीं। गीता में कृष्ण का नाम दे दिया है। दुनिया को पलटने वाला कृष्ण तो हो नहीं सकता। दुनिया को पलटाने वाले को गॉड कहा जाता है। अभी तुम समझते हो बाप हमें क्या से क्या बना रहे हैं। हम तो कुछ भी नहीं जानते थे। बरोबर हम विश्व के महाराजा महारानी बनते हैं। नाम ही है गोल्डन एज, सोने की दुनिया। द्वारिका को भी सोने की कहते हैं। द्वारिका माना सारा शहर सोने का। तो जरूर इतना अथाह धन होगा, बच्चों ने साक्षात्कार भी किया है। बाबा कहते हैं जितना तुम आगे जायेंगे उतना घड़ी-घड़ी साक्षात्कार होंगे। अपने देश के नजदीक आते हैं तो दिल में आता है कि अभी हम जाकर पहुँचेंगे। तुम जानते हो यह लड़ाई भी जरूर लगेगी तब तो पुरानी दुनिया का विनाश होगा। जैसे देखो देहली पुरानी थी, अब नई बनाई है। तुम तो जानते हो यह सारी दुनिया कब्रिस्तान है, फिर परिस्तान बनना है। बाबा हमको नई दुनिया का वर्सा दे रहे हैं। भारत का आज वह दिन आया है – जो गरीब भारत को बाप से स्वर्ग की बादशाही मिलती है। नई देहली तो सारी नहीं कहेंगे। नई दुनिया में नई देहली कहेंगे। गांधी जी कहते थे अथवा अभी भी कहते हैं कि रामराज्य हो। तो समझाना चाहिए जरूर अभी रावण राज्य है। कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा। तो जरूर नर्क में था, तब तो स्वर्ग में गये। स्वर्ग में यह अक्षर नहीं कहेंगे। यहाँ जैसे स्वर्ग को याद करना है वैसे बाप को याद करना है। कोई मरते हैं तो कहते हैं हेविनली अबोड। उस हेविन में कौन सा धर्म निवास करता है? गॉड फादर ही हेविन स्थापन करते हैं। तुम देखते हो कि बैठे कैसे साधारण रीति हैं। ड्रामा के राज़ को तुम ही जानते हो। जो सीन जिस समय चलती है फिर बाद में रिपीट होती है। फिर 5 हजार वर्ष बाद रिपीट होगी। क्राइस्ट को क्रास पर चढ़ाया, पास्ट हो गया। यह है वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी जो फिर से रिपीट होगी। क्रिश्चियन धर्म नहीं होगा, फिर से क्राइस्ट आकर स्थापन करेगा। यह बातें सिवाए तुम्हारे और कोई की बुद्धि में नहीं हैं। बाप कहते हैं मैं फिर से 5 हजार वर्ष बाद राजयोग सिखलाने आया हूँ। टीचर कहेंगे हम तुमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ सुना रहा हूँ। यह नॉलेज सिवाए परमपिता परमात्मा के कोई दे न सके। यह बातें शास्त्रों में नहीं हैं। यह कोई समझते थोड़ेही हैं। क्राइस्ट फिर 3 हजार वर्ष बाद आयेगा। अभी 2 हजार वर्ष हुआ है तो 5 हजार वर्ष का हिसाब हुआ ना। परन्तु किसकी बुद्धि में बैठता नहीं है।

तुम बच्चे जानते हो कि फिर से स्वर्ग स्थापन हो रहा है। कोई लड़ाई आदि नहीं। बाप हिंसा थोड़ेही करायेंगे। तुम बाप द्वारा डबल अहिंसक बन डबल सिरताजधारी बन रहे हो। बाप ने कहा है – काम महाशत्रु है। उनको जीतने से तुम पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। टाइम तो अब वही है। सरकमस्टांश भी देखते जा रहे हो। यह भारत की लड़ाई भी 5 हजार वर्ष पहले लगी थी। अब फिर किसकी विजय हुई? यादव कौरव खलास हुए फिर रिजल्ट क्या हुई? कुछ दिखलाते नहीं। बाप आये, महाभारत लड़ाई लगी फिर क्या हुआ? दिखाते हैं कि पाण्डव गल मरे पहाड़ों पर। कुत्ता भी साथ में दे दिया है। समझते कुछ भी नहीं। बेहद का कितना बड़ा चक्र है, कितने धर्म हैं। तुम्हारी बुद्धि में नटशेल में सारा राज़ हैं। पहले-पहले तुम बहुत साहूकार थे। अब तो बहुत गरीब हैं। अभी तो मनुष्य भी बहुत बढ़ गये हैं। आखरीन तो यह समझते हो ना और बोलते भी हैं, सरकमस्टांश ऐसे-ऐसे हैं। तुम यह भी जानते हो हम श्रीमत पर चल श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ राजधानी स्थापन कर रहे हैं – कल्प पहले मुआफिक। वह नशा चढ़ना चाहिए ना। गुप्त अननोन वारियर्स कहते हैं ना। तुम वास्तव में सच्चे अननोन हो, परन्तु वेरी वेल नोन हो। वह कहते हैं – अन-नोन वारियर्स फिर इतना वेल-नोन, जो बड़े आदमी भी जाते हैं फूल चढ़ाने। तुम भी कितने वेल नोन बनते हो। तुम्हारे ऊपर कितने फूल चढ़ायेंगे, कितने मन्दिर बनायेंगे। अभी तुमको कोई नहीं जानते हैं। वह तो बन्दूक-बाज़ी आदि से मारे जाते हैं। तुम भारत को स्वर्ग बना देते हो, फिर तुम विष्णु माला वा रुद्र माला में पिरो जाते हो। परन्तु यह भी कोई समझते नहीं हैं कि शिव शक्ति पाण्डव सेना ने क्या किया था। अब भी नहीं जानते हैं कि तुम क्या कर रहे हो। तुम कितने जबरदस्त वारियर्स हो। तुम्हारी वार (युद्ध) किसके साथ है? रावण के साथ। तुम किसको कहेंगे हम युद्ध के मैदान में हैं तो सुनकर हँसेंगे। कहते हैं ना – छोटा मुख बड़ी बात करते हैं। हम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। तुम्हारे जैसी बातें किसको करने नहीं आयेंगी। बेहद का बाप आकर इस छोटे मुख से कितनी बड़ी बातें करते हैं। वह कृष्ण के लिए कहते होंगे मुख छोटा बड़ी बात। परन्तु कृष्ण तो है ही छोटा। बच्चे का मुख जरूर छोटा होगा। मुख छोटा बात बड़ी यह परमात्मा के लिए कहते हैं। बाबा गरीब निवाज़ है। सबको कितना साहूकार आकर बनाते हैं। पुराने शरीर में आते हैं। तुम भी गरीब, भारत भी गरीब, उनका ही बाबा गरीब-निवाज़ आकर बनते हैं। तुम कहते हो बाबा नर्क को आकर स्वर्ग बनाते हैं। कितनी बड़ी गुह्य बातें हैं। कहते हैं भारत को स्वर्ग कैसे बनायेंगे? यह कैसे हो सकता है? कॉलेज देखो कैसा है! कौन पढ़ाते हैं! और तुम पद कितना ऊंच पाते हो। बैठे तुम देखो कैसे हो। वन्डर है ना। कल्प-कल्प ऐसे ही होगा। शुरू से लेकर जो हुआ है, बाप जैसे आया वही रिपीट होगा। इनको बैठ समझाते हैं। तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, मैं बताता हूँ। निश्चय भी उनको बैठेगा, जिनको कल्प पहले बैठा होगा। माया भी कम नहीं है। निश्चय कर औरों को निश्चय बिठाते फिर भी माया संशय बुद्धि बना देती है। और फिर भी जो कोई संशय बुद्धि होकर गये हैं, उनको फिर निश्चय बुद्धि में ले आते हैं। समझ में आता है कि बरोबर बाप की नॉलेज बड़ी वन्डरफुल है इसलिए कहा जाता है भगवान की गत मत भगवान ही जानें। गरीब निवाज़ बाप आकर कितना साहूकार बनाते हैं। सारे विश्व को पलटाते हैं। उनको रिज्यूवनेट कर काया कल्पतरू भी करते हैं। तुम्हारी काया कैसी फर्स्टक्लास बन जाती है। तुम समझते हो बरोबर सतयुग में हमारी आयु बड़ी थी। एक शरीर छोड़ दूसरा लेते थे। यहाँ देखो तो क्या हाल हो गया है। मौत से डरते रहते हैं। तुम बच्चों को साक्षात्कार भी कराया है। तुम जंगल में जाते हो, कोई तुम्हारे सामने आते हैं तो उनको साक्षात्कार हो जाता है – यह तो देवी है, झट भाग जाते हैं। बाबा बच्चों की कितनी सम्भाल करते हैं इसलिए तुम्हारा नाम शक्तियां रखा है। तुमसे और सब मनुष्य डरेंगे। काली से कितना डरते हैं। भयंकर रूप दिखाते हैं। यह भी साक्षात्कार हुआ है। कोई चोर सामने आता है तो काली का रूप देख भाग जाता है। कितनी सम्भाल, रक्षा भी करते हैं। किससे? रावण से। तुमको युक्तियां बतलाते रहते हैं। बाप को याद करते रहेंगे तो माया पास आने का नाम भी नहीं लेगी इसलिए बाप समझाते हैं अपने पास चार्ट जरूर रखो। तुम्हारी भी रेस है। रेस भी जब होती है, तो उन्हों की रेख देख करने वाले भी होते हैं। कहाँ कोई गड़बड़ तो नहीं करते हैं। तुमको तो श्रीमत पर चलना है, इसलिए बाप कहते हैं मुझे याद करो। माया बहुत विकल्प लायेगी। समझेंगे आगे तो कभी ऐसे ख्याल भी नहीं आये। अभी बुढ़ा हो गया हूँ फिर भी ऐसे संकल्प क्यों आते हैं। स्वप्न भी बहुत आते रहेंगे। माया के तूफानों से डरना नहीं है। काम अग्नि से कभी जलना नहीं है। बाप ने समझाया है इस समय सब काम चिता पर बैठ जल मरे हैं। गन्द करते ही रहते हैं। विलायत में 4-5 बच्चे पैदा करने वाले को इनाम देते हैं। अखबारों में ऐसे बहुत समाचार आते हैं। बाबा तुम्हें सारी दुनिया का समाचार सुनाते हैं – क्या-क्या हो रहा है। रेडियों से भी मालूम पड़ता है कि कहाँ जोर से लड़ाई तो नहीं छिड़ी है! अब तुम बच्चे जानते हो कि हम बहुत साहूकार बन रहे हैं। स्वर्ग के मालिक बनते हैं। प्रजा भी वहाँ की बहुत साहूकार होती है। उनके लिए भी कोई अप्राप्त वस्तु नहीं रहती, जिसके लिए इन्वेन्शन आदि निकालें। कृष्ण तो बहुत साहूकार है, शिवबाबा के पास कोई पैसा आदि है क्या? कृष्ण तो वैकुण्ठ का मालिक है। तुम जानते हो कि हमारी एम आब्जेक्ट कितनी बड़ी है। यह लक्ष्मी-नारायण बरोबर महाराजा महारानी थे। अब नहीं हैं। अब फिर बाप ऐसा बना रहे हैं। यह अभी कितने गरीब हैं, कितने साहूकार थे। तुमको इन लक्ष्मी-नारायाण की हिस्ट्री-जॉग्राफी का पता है। ऐसा कोई मनुष्य होगा जिसको अपने 84 जन्मों का पता हो? अभी तुम्हें कितनी ऊंच शिक्षा मिलती है। बताने वाला है ही एक बाप। उनके कितने मन्दिर बनते हैं। तुम कहेंगे हमने राज्य किया था। हमारे कितने मन्दिर बने हुए हैं। सारा दिन इन बातों में रमण करते हर्षित रहना चाहिए। *अच्छा!*

*मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।*

*धारणा के लिए मुख्य सार*

*1)* माया के तूफानों से डरना नहीं है, याद की रेस करनी है। याद का ही चार्ट रखना है। याद ही सेफ्टी का साधन है।

*2)* श्रीमत पर हम श्रेष्ठ राजधानी स्थापन कर रहे हैं। हम अन-नोन (गुप्त) लेकिन वेरी वेलनोन (प्रख्यात) वारियर्स हैं। इस रूहानी नशे में रहना है।

*वरदान:-*अपनी श्रेष्ठ दृष्टि, वृत्ति, कृति से सेवा करने वाले निरन्तर सेवाधारी भव ।

जैसे यह शरीर श्वांस के बिना नहीं रह सकता ऐसे ब्राह्मण जीवन का श्वांस है सेवा। जैसे श्वांस न चलने पर मूर्छित हो जाते हैं, ऐसे अगर ब्राह्मण आत्मा सेवा में बिजी नहीं तो मूर्छित हो जाती है इसलिए हर समय अपनी श्रेष्ठ दृष्टि से, वृत्ति से, कृति से सेवा करते रहो। वाणी से सेवा का चांस नहीं मिलता तो मन्सा सेवा करो। जब सब प्रकार की सेवा करेंगे तब फुल मार्क्स ले सकेंगे।

*स्लोगन:-*साक्षीपन की स्थिति का तख्त ही यथार्थ निर्णय का तख्त है।

Comments

comments