12 February 2017 Murli

https://www.youtube.com/watch?v=lYHK_yc9FS0

English

The benefits of slowing down the speed of thoughts.

Blessing: May you be an intense effort-maker who tightens the loose screw of carelessness by making a determined promise.
The main reason for being loose in your promise is carelessness. For instance, no matter how big some piece of machinery may be, if even a tiny screw is loose, the whole machine becomes useless. Similarly, in order to fulfil your promise, you make very good plans, you also make effort, but the one screw that makes you weak in your efforts and your plans is carelessness. It comes in new forms. Now, tighten this loose screw. “I definitely have to become equal to the Father”. By having this determined thought, you will become an intense effort-maker.

Slogan: An attitude of unlimited disinterest is the foundation for the closeness of time.

Hindi

प्रश्न:- गुणवान बनने के लिए कौन-सी पहली-पहली श्रीमत मिली हुई है?
उत्तर:- मीठे बच्चे – गुणवान बनना है तो – 1. किसी की भी देह को मत देखो। अपने का आत्मा समझो। एक बाप से सुनो, एक बाप को देखो। मनुष्य मत को नहीं देखो। 2.देह-अभिमान के वश ऐसी कोई एक्टिविटी न हो जिससे बाप का वा ब्राह्मण कुल का नाम बदनाम हो। उल्टी चलन वाले गुणवान नहीं बन सकते। उन्हें कुल कंलकित कहा जाता है।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) देह-अभिमान में आने से पाप जरूर होते हैं, देह-अभिमानी को ठौर नहीं मिल सकती, इसलिए देही-अभिमानी बनने का पूरा पुरूषार्थ करना है। कोई भी कर्म बाप की निंदा कराने वाला न हो।
2) अन्दर की बीमारियां बाप को सच-सच बतानी हैं, अवगुण छिपाने नहीं हैं। अपनी जांच करनी है कि मेरे में क्या-क्या अवगुण हैं? पढ़ाई से स्वयं को गुणवान बनाना है।
वरदान:- नॉलेजफुल बन सर्व व्यर्थ के प्रश्नों को यज्ञ में स्वाहा करने वाले वाले निर्विघ्न भव
जब कोई विघ्न आते हैं तो क्या – क्यों के अनेक प्रश्नों में चले जाते हो, प्रश्नचित बनना अर्थात् परेशान होना। नॉलेजफुल बन यज्ञ में सर्व व्यर्थ प्रश्नों को स्वाहा कर दो तो आपका भी टाइम बचेगा और दूसरों का भी टाइम बच जायेगा। इससे सहज ही निर्विघ्न बन जायेंगे। निश्चय और विजय जन्म सिद्ध अधिकार है – इस शान में रहो तो कभी भी परेशान नहीं होंगे।
स्लोगन:- सदा उत्साह में रहना और दूसरों को उत्साह दिलाना-यही आपका आक्यूपेशन है।

Comments

comments