24 May 2016 Murli

English

Essence: Sweet children, stay in the spiritual intoxication of belonging to God’s family and of establishing your incognito divine kingdom.

Question: Which firm habit should you children have so that you remain happy throughout the day?
Answer: When you have the habit of waking up early in the morning and churning the ocean of knowledge, you will have limitless happiness throughout the day. The Father’s shrimat is: Children, wake up at amrit vela and talk sweetly to your Father. Think about which family you belong to and what your duty is. When it remains in your intellect that you belong to this family of God and that you are establishing your new kingdom, your happiness will remain throughout the day.

Essence for dharna:
1. Do not remember any bodily beings. Therefore, do not love anyone. Go beyond that and remain very cautious. Don’t be afraid of the sinful thoughts of Maya, but become victorious.
2. There is a lot of interference by Maya in trance and visions. Therefore, save yourself from that interference of evil spirits. Give the Father your true news.

Blessing: May you remain constantly safe, constantly happy and constantly content with the double lock of remembrance and service.
Throughout the day, let your thoughts, words and deeds be for remembrance of the Father and for service. Let there be remembrance of the Father in your every thought. Give others the treasures you have received from the Father through your words. Reveal the Father’s divine activities and character through your deeds. If you remain constantly busy in remembrance and service in this way, the double lock will be applied and then Maya will never be able to come to you. Those who apply a firm lock with this awareness remain constantly safe, constantly happy and constantly content.

Slogan: If you have the diamond key of the word “Baba” with you, you will continue to experience all treasures.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – इसी रूहानी नशे में रहो कि हम ईश्वरीय फैमिली के हैं, हम अपनी गुप्त दैवी राजधानी स्थापन कर रहे हैं”
प्रश्न:- बच्चों में कौन सी आदत पक्की हो तो सारा दिन खुशी बनी रहे?
उत्तर:- अगर सवेरे-सवेरे उठकर विचार सागर मंथन करने की आदत हो तो सारा दिन अपार खुशी रहे। बाप की श्रीमत है बच्चे, अमृतवेले उठकर अपने बाप से मीठी-मीठी बातें करो। विचार करो – हम अभी किस फैमिली के हैं। हमारा कर्तव्य क्या है, अगर बुद्धि में रहे कि हमारी यह ईश्वरीय फैमिली है, हम अपनी नई राजधानी स्थापन कर रहे हैं तो सारा दिन खुशी बनी रहे।
धारणा के लिए मुख्य सार :-
1) किसी भी देहधारी की याद न आये, इसके लिए किसी से भी प्यार नहीं करना है। इससे भी पार जाना है। बहुत खबरदारी रखनी है। माया के विकल्पों से घबराना नहीं है, विजयी बनना है।
2) ध्यान दीदार में माया की बहुत प्रवेशता होती है इस भूत प्रवेशता से अपने को बचाना है। बाप को अपना सच्चा-सच्चा समाचार देना है।
वरदान:- याद और सेवा के डबल लॉक द्वारा सदा सेफ, सदा खुश और सदा सन्तुष्ट भव
सारा दिन संकल्प, बोल और कर्म बाप की याद और सेवा में लगा रहे। हर संकल्प में बाप की याद हो, बोल द्वारा बाप का दिया हुआ खजाना दूसरों को दो, कर्म द्वारा बाप के चरित्रों को सिद्ध करो। अगर ऐसे याद और सेवा में सदा बिजी रहो तो डबल लॉक लग जायेगा फिर माया कभी आ नहीं सकती। जो इस स्मृति से पक्का लॉक लगाते हैं वो सदा सेफ, सदा खुश और सदा सन्तुष्ट रहते हैं।
स्लोगन:- “बाबा” शब्द की डायमण्ड चाबी साथ हो तो सर्व खजानों की अनुभूति होती रहेगी।

Comments

comments