28 July 2015 Murli

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – तुम्हारी पढ़ाई का फाउन्डेशन है प्योरिटी, प्योरिटी है तब योग का जौहर भर सकेगा, योग का जौहर है तो वाणी में शक्ति होगी”
प्रश्न:- तुम बच्चों को अभी कौन-सा प्रयत्न पूरा-पूरा करना है?
उत्तर:- सिर पर जो विकर्मों का बोझा है उसे उतारने का पूरा-पूरा प्रयत्न करना है। बाप का बनकर कोई विकर्म किया तो बहुत जोर से गिर पड़ेंगे। बी.के. की अगर निंदा कराई, कोई तकलीफ दी तो बहुत पाप हो जायेगा। फिर ज्ञान सुनने-सुनाने से कोई फायदा नहीं।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) पढ़ाई के साथ-साथ पवित्र जरूर बनना है। ऐसा लायक वा सपूत बच्चा बन सर्विस का सबूत देना है। श्रीमत पर स्वयं को श्रेष्ठ बनाना है।
2) स्थूल धन भी व्यर्थ नहीं गँवाना है। पतितों को दान नहीं करना है। ज्ञान धन भी पात्र को देखकर देना है।
वरदान:- सर्व सम्बन्धों का अनुभव एक बाप से करने वाले अथक और विघ्न-विनाशक भव
जिन बच्चों के सर्व सम्बन्ध एक बाप के साथ हैं उनको और सब सम्बन्ध निमित्त मात्र अनुभव होंगे, वह सदा खुशी में नाचने वाले होंगे, कभी थकावट का अनुभव नहीं करेंगे, अथक होंगे। बाप और सेवा इसी लगन में मगन होंगे। विघ्नों के कारण रूकने के बजाए सदा विघ्न विनाशक होंगे। सर्व सम्बन्धों की अनुभूति एक बाप से होने के कारण डबल लाइट रहेंगे, कोई बोझ नहीं होगा। सर्व कम्पलेन समाप्त होंगी। कम्पलीट स्थिति का अनुभव होगा। सहजयोगी होंगे।
स्लोगन:- संकल्प में भी किसी देहधारी तरफ आकर्षित होना अर्थात् बेवफा बनना।

Engish

Essence: Sweet children, the foundation of your study is purity. Only when there is purity are you able to fill yourself with the power of yoga. Only when there is the power of yoga can that power be carried in your words.

Question: What full effort must you children make?
Answer: Make full effort to remove the burden of sins on your head. If, after belonging to the Father, you commit any sins, you will fall very hard. If you cause the BKs to be defamed or cause them any other difficulty, you will accumulate a lot of sin. Then, there will be no benefit in your listening to or relating this knowledge.

Essence for dharna:
1. Together with studying, you definitely have to become pure. Become a worthy and obedient child and give the proof of your service. Follow shrimat and make yourself elevated.
2. Don’t waste your money. Never give donations to the impure. Donate the wealth of knowledge to those who are worthy of it.

Blessing: May you experience all relationships with the one Father and become tireless and a destroyer of obstacles.
The children who have all relationships with the one Father experience all other relationships to be in name only. They constantly dance in happiness, never experience tiredness and are tireless. They become lost in love for the Father and for service. Instead of coming to a standstill because of obstacles, they are constant destroyers of obstacles. Because of experiencing all relationships with the one Father, they remain double light and have no burdens. All their complaints have finished. They experience their complete stage and are easy yogis.

Slogan: To be attracted to any bodily being, even in your thoughts, means to be unfaithful.

Comments

comments