29 June 2016 Murli

English

Essence: Sweet children, you are now true Raja Yogis. You are also called Raj Rishis. Raj Rishis means those who are pure.

Question: When will you children be able to remove people from the quicksand of Ravan?
Answer: When you yourselves have come out of that quicksand. The sign of those who have come out of the quicksand is that they are free from all desires. They remember no one but the one Father. There shouldn’t be any greed for good clothes or good food. You have absolute simplicity. You have even forgotten that body of yours. “Nothing belongs to me. I am a soul.” Only such soul-conscious children can remove people from the quicksand of Ravan.

Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop.

Essence for dharna:
1. Renounce all consciousness of “mine” and consider yourself to be a soul. Make effort to remain soul conscious. Remain in complete simplicity here. Become completely ignorant of any desire to wear good clothes or eat good food.
2. While playing your part and performing actions, remain stable in your original religion of peace. Remember the land of peace and the land of happiness. Forget this land of sorrow.

Blessing: May you practise having the avyakt stage and thereby face all adverse situations with your original stage.
When you have developed the habit of practising the avyakt stage, you will be able to face all adverse situations with your original stage, and this habit will save you from having to go to court. Therefore, when you make this practice natural and part of your nature, natural calamities will then take place because when those who face everything imbibe the power to overcome adverse situations with their original stage, the curtain will open. For this, let there be complete disinterest in old habits, old sanskars and old situations.

Slogan: Consider yourself to be an instrument who is karanhar (one who does) and you will not experience tiredness from any action.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – तुम अभी सच्चे-सच्चे राजयोगी हो, तुम्हें राजऋषि भी कहा जाता है, राजऋषि माना ही पवित्र”
प्रश्न:- तुम बच्चे, मनुष्यों को माया रूपी रावण की दल-दल से कब निकाल सकेंगे?
उत्तर:- जब तुम खुद उस दल-दल से निकले हुए होंगे। दल-दल से निकलने वालों की निशानी है – इच्छा मात्रम् अविद्या। एक बाप के सिवाए और कुछ भी याद न आये। अच्छा कपड़ा पहनें, अच्छी चीज खायें.. यह लालच न हो, तुम पूरा ही वनवाह में हो। इस शरीर को भी भूले हुए, मेरा कुछ भी नहीं, मैं आत्मा हूँ – ऐसे आत्म-अभिमानी बच्चे ही रावण की दल-दल से मनुष्यों को निकाल सकते हैं।
गीत:- तू प्यार का सागर है….
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) मेरा-मेरा सब छोड़ अपने को आत्मा समझना है। आत्म-अभिमानी रहने की मेहनत करनी है। यहाँ बिल्कुल वनवाह में रहना है। कोई भी पहनने, खाने की इच्छा से इच्छा मात्रम् अविद्या बनना है।
2) पार्ट बजाते हुए कर्म करते अपने शान्ति स्वधर्म में स्थित रहना है। शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है। इस दु:खधाम को भूल जाना है।
वरदान:- स्व-स्थिति द्वारा सर्व परिस्थितियों का सामना करने वाले अव्यक्त स्थिति के अभ्यासी भव
जब अव्यक्त स्थिति के अभ्यास की आदत बन जायेगी तब स्व स्थिति द्वारा हर परिस्थिति का सामना कर सकेंगे। और यह आदत अदालत में जाने से बचा देगी इसलिए इस अभ्यास को जब नेचरल और नेचर बनाओ तब नेचरल कैलेमिटीज हो क्योंकि जब सामना करने वाले स्व स्थिति से हर परिस्थिति को पार करने की शक्ति धारण कर लेंगे तब पर्दा खुलेगा। इसके लिए पुरानी आदतों से, पुराने संस्कारों से, पुरानी बातों से… पूरा वैराग्य चाहिए।
स्लोगन:- स्वयं को निमित्त करनहार समझो तो किसी भी कर्म में थकावट नहीं हो सकती।

Comments

comments