03 May 2016 Murli

English

Essence: Sweet children, only from the one Father, not from any bodily being, do you receive the blessing of peace and happiness. Baba has come to show you the path to liberation and liberation-in-life.

Question: What effort do you have to make in order to go back with the Father and then come at the beginning of the golden age?
Answer: If you want to go back with the Father, become completely pure. In order to come at the beginning of the golden age, break your intellect’s yoga away from everyone else and stay in remembrance of the one Father. Definitely become soul conscious. If you follow the directions of the one Father, you claim a right to an elevated status.

Song: Show the path to us blind ones, dear God!

Essence for dharna:
1. Study with full attention the knowledge that the Father teaches you. In this last birth, know your 84 births with the third eye of knowledge and become pure.
2. In order to be saved from the curse of Ravan, stay in remembrance of the one Father. Donate the five vices. Follow the directions of the one Father.

Blessing: May you be an angel who experiences refinedness through spiritual exercise and self-control.
Refinedness of the intellect and lightness is the personality of Brahmin life. Refinedness is greatness. However, to achieve this, every day at amrit vela, perform the spiritual exercise of becoming bodiless and also observe precautions with the food of waste thoughts. To follow precautions, let there be self-control. At any given time, only take the food you have to eat at that time. Do not eat any extra food of waste thoughts for only then will your intellect become refined and you will be able to achieve your goal of becoming an angelic form.

Slogan: A great soul is one who follows shrimat accurately at every second and at every step.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – सुख-शान्ति का वरदान एक बाप से ही मिलता है, कोई देहधारी से नहीं, बाबा आये हैं – तुम्हें मुक्ति-जीवनमुक्ति की राह दिखाने”
प्रश्न:- बाप के साथ जाने और सतयुग आदि में आने का पुरूषार्थ क्या है?
उत्तर:- बाप के साथ जाना है तो पूरा पवित्र बनना है। सतयुग आदि में आने के लिए और संग बुद्धियोग तोड़ एक बाप की याद में रहना है। आत्म-अभिमानी जरूर बनना है। एक बाप की मत पर चलेंगे तो ऊंच पद का अधिकार मिल जायेगा।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) बाप जो नॉलेज देते हैं उसे पूरा अटेन्शन देकर पढ़ना है। ज्ञान के तीसरे नेत्र से अपने 84 जन्मों को जान अब अन्तिम जन्म में पावन बनना है।
2) रावण के श्राप से बचने के लिए एक बाप की याद में रहना है। 5 विकारों का दान दे देना है। एक बाप की मत पर चलना है।
वरदान:- रूहानी एक्सरसाइज और सेल्फ कन्ट्रोल द्वारा महीनता का अनुभव करने वाले फरिश्ता भव
बुद्धि की महीनता व हल्कापन ब्राह्मण जीवन की पर्सनेलिटी है। महीनता ही महानता है। लेकिन इसके लिए रोज अमृतवेले अशरीरीपन की रूहानी एक्सरसाइज करो और व्यर्थ संकल्पों के भोजन की परहेज रखो। परहेज के लिए सेल्फ कन्ट्रोल हो। जिस समय जो संकल्प रूपी भोजन स्वीकार करना हो उस समय वही करो। व्यर्थ संकल्प का एकस्ट्रा भोजन नहीं करो तब महीन बुद्धि बन फरिश्ता स्वरूप के लक्ष्य को प्राप्त कर सकेंगे।
स्लोगन:- महान आत्मा वह हैं जो हर सेकण्ड, हर कदम श्रीमत पर एक्यूरेट चलते हैं।

Comments

comments