28 May 2016 Murli

English

Essence: Sweet children, follow shrimat and make everyone happy. You have been making everyone unhappy by following devilish dictates. Now give happiness and receive happiness.

Question: By understanding which secret do wise children make effort to claim a high status?
Answer: They understand that this is a play about happiness and sorrow, victory and defeat. The play of happiness will now continue for half the cycle. There will not be any type of sorrow there. The new kingdom is now going to come. For that, the Father has left His supreme region and come here to teach us children. Now make effort and definitely claim a high status.

Song: The world may change, but we will not change.

Essence for dharna:
1. Having donated the vices to Shiv Baba, never take them back. Protect yourself from the evil spirit of body consciousness. All other evil spirits come through this evil spirit. Therefore, practise remaining soul conscious.
2. Don’t have any desire to go into trance or have visions. Make effort while keeping your aim and objective in front of you. Give everyone happiness by following shrimat.

Blessing: May you be an elevated effort-maker who finishes ordinariness and experiences greatness.
Every thought of those who are elevated effort-makers would be great because there is automatically remembrance of the Father in their every thought and breath. Just as on the path of devotion they speak of the unlimited sound being heard and the soundless chant continues, similarly, let there be constant effort; this is known as elevated effort. Let yourself not have to remember, but let it be natural; ordinariness will then continue to finish and greatness will develop. This is a sign of your moving forward.

Slogan: Those who go to the bottom of the ocean with their churning power claim a right to the jewels.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – श्रीमत पर चलकर सबको सुख दो, आसुरी मत पर दु:ख देते आये, अब सुख दो, सुख लो”
प्रश्न:- बुद्धिवान बच्चे किस राज को समझने के कारण ऊंच पद पाने का पुरूषार्थ करते हैं?
उत्तर:- वे समझते हैं कि यह दु:ख और सुख, हार और जीत का खेल है। अभी आधाकल्प सुख का खेल चलने वाला है। वहाँ किसी भी प्रकार का दु:ख नहीं होगा। अब नई राजधानी आने वाली है, उसके लिए बाप अपना परमधाम छोड़कर हम बच्चों को पढ़ाने आये हैं, अब पुरूषार्थ कर ऊंच पद लेना ही है।
गीत:- बदल जाये दुनिया न बदलेंगे हम…
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) शिवबाबा को विकारों का दान देकर फिर कभी वापस नहीं लेना है। देह-अभिमान के भूत से बचना है। इस भूत से सब भूत आ जाते हैं इसलिए आत्म-अभिमानी बनने का अभ्यास करना है।
2) ध्यान दीदार की आश नहीं रखनी है। एम-आब्जेक्ट को सामने रख पुरूषार्थ करना है। श्रीमत पर सबको सुख देना है।
वरदान:- साधारणता को समाप्त कर महानता का अनुभव करने वाले श्रेष्ठ पुरूषार्थी भव
जो श्रेष्ठ पुरूषार्थी बच्चे हैं उनका हर संकल्प महान होगा क्योंकि उनके हर संकल्प, श्वांस में स्वत: बाप की याद होगी। जैसे भक्ति में कहते हैं अनहद शब्द सुनाई दे, अजपाजाप चलता रहे, ऐसा पुरूषार्थ निरन्तर हो इसको कहा जाता है श्रेष्ठ पुरूषार्थ। याद करना नहीं, स्वत: याद आता रहे तब साधारणता खत्म होती जायेगी और महानता आती जायेगी-यही है आगे बढ़ने की निशानी।
स्लोगन:- मनन शक्ति द्वारा सागर के तले में जाने वाले ही रत्नों के अधिकारी बनते हैं।

Comments

comments