25 May 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, only shrimat can make you elevated. Therefore, never forget shrimat. Renounce the dictates of your own minds and follow the one Father’s directions.

Question: What is the way to become a charitable soul?
Answer: In order to become a charitable soul, remember the one Father with love and with an honest heart. Do not perform any sinful act through your physical organs. Show everyone the path. Ask your heart: How much charity do I perform? Check that you do not perform any acts for which you would have to experience one hundred fold punishment. By checking yourself in this way, you can become a charitable soul.

Essence for dharna:
1. Have regard for the treasures of the imperishable jewels of knowledge that the Father gives you. Do not become careless and perform any sinful acts. If you have the faith that God is teaching you, you will stay in limitless happiness.
2. Never think of stealing something from God’s home. That habit is very dirty. It is said: One who steals a straw can also steal one hundred thousand. Ask yourself: How charitable have I become?

Blessing: May you be images that grant visions by being the lights of the world who take devotees beyond with a glance.
The whole world is waiting to take drishti from the eyes of you, who are the lights of the world. When you lights of the world reach your complete and perfect stage, that is, when you open your eyes of perfection, world transformation will then take place in a second. You souls, who are images that grant visions, will then be able to take devotees beyond with a glance. There is a long queue of those who want to be taken beyond with a glance. Therefore, let your eyes of perfection remain open. Stop rubbing your eyes, stop choking and nodding off with your thoughts and you will be able to become the images that grant visions.

Slogan: A pure and clean nature is a sign of humility. Become pure and clean and you will receive success.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – श्रीमत ही तुमको श्रेष्ठ बनाने वाली है, इसलिए श्रीमत को भूलो मत, अपनी मत को छोड़ एक बाप की मत पर चलो”
प्रश्न:- पुण्य आत्मा बनने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- पुण्य आत्मा बनना है तो सच्ची दिल से, प्यार से एक बाप को याद करो। 2. कर्मेन्द्रियों से कोई भी विकर्म न करो। सबको रास्ता बताओ। अपनी दिल से पूछो – यह पुण्य हम कितना करते हैं? अपनी चेकिंग करो – ऐसा कोई कर्म न हो जिसकी 100 गुणा सजा खानी पड़े। तो चेकिंग करने से पुण्य आत्मा बन जायेंगे।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) बाप जो अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना देते हैं उसका कदर करना है। बेपरवाह बन पाप कर्म नहीं करने हैं। अगर निश्चय है भगवान हमको पढ़ाते हैं तो अपार खुशी में रहना है।
2) ईश्वर के घर में कभी चोरी आदि करने का ख्याल न आये। यह आदत बहुत गंदी है। कहा जाता कख का चोर सो लख का चोर। अपने अन्दर से पूछना है – हम कितना पुण्य आत्मा बने हैं?
वरदान:- जहान के नूर बन भक्तों को नजर से निहाल करने वाले दर्शनीय मूर्त भव
सारा विश्व आप जहान के आंखों की दृष्टि लेने के लिए इन्तजार में है। जब आप जहान के नूर अपनी सम्पूर्ण स्टेज तक पहुचेंगे अर्थात् सम्पूर्णता की आंख खोलेंगे तब सेकण्ड में विश्व परिवर्तन होगा। फिर आप दर्शनीय मूर्त आत्मायें अपनी नजर से भक्त आत्माओं को निहाल कर सकेंगी। नजर से निहाल होने वालों की लम्बी क्यू है इसलिए सम्पूर्णता की आंख खुली रहे। आंखों का मलना और संकल्पों का घुटका व झुटका खाना बन्द करो तब दर्शनीय मूर्त बन सकेंगे।
स्लोगन:- निर्मल स्वभाव निर्मानता की निशानी है। निर्मल बनो तो सफलता मिलेगी।

Comments

comments