20 March 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, the Father is now sustaining you, teaching you and advising you whilst you are sitting at home. Therefore, continue to take advice at every step and only then will you claim a high status.

Question: In order to be liberated from punishment, what effort do you have to make over a long period of time?
Answer: That of becoming a conqueror of attachment. Let there not be any attachment to anyone. Ask your heart: Do I have attachment to anyone? None of your old relationships should be remembered at the end. Settle all your karmic accounts with the power of yoga; only by doing this can you claim a high status without experiencing punishment.

Essence for dharna:
1. Without worrying about anything, establish your incognito kingdom on the basis of shrimat. Do not be concerned about obstacles. Let it remain in your intellect that those who helped in the previous cycle will definitely do so again. Do not worry about anything.
2. Always have the happiness that this is now our stage of retirement and that we are to return home. Make very good incognito effort to become soul conscious. Do not perform any sinful act.

Blessing: May you be a merciful world benefactor and give every soul courage and enthusiasm.
Never say to any weak soul in the Brahmin family: You are weak. Let there always be pure words – not words that make souls disheartened – emerging from the lips of you merciful world benefactor souls for all souls. No matter how weak souls may be, even if you have to give them a signal or some correction, first of all, make them powerful and then correct them. First of all, plough the field with courage and enthusiasm and then sow the seed and every seed will easily bear fruit. By your doing this, the service of world benevolence will become fast.

Slogan: While receiving blessings from the Father, always experience fullness.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – बाप अभी तुम्हारी पालना कर रहे हैं, पढ़ा रहे हैं, घर बैठे राय दे रहे हैं, तो कदम-कदम पर राय लेते रहो तब ऊंच पद मिलेगा”

प्रश्न:- सजाओं से छूटने के लिए कौन-सा पुरूषार्थ बहुत समय का चाहिए?
उत्तर:- नष्टोमोहा बनने का। किसी में भी ममत्व न हो। अपने दिल से पूछना है-हमारा किसी में मोह तो नहीं है? कोई भी पुराना सम्बन्ध अन्त में याद न आये। योगबल से सब हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं तब ही बिगर सजा ऊंच पद मिलेगा।

धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) बिगर कोई फिक्र (चिंता) के अपनी गुप्त राजधानी श्रीमत पर स्थापन करनी है। विघ्नों की परवाह नहीं करनी है। बुद्धि में रहे कल्प पहले जिन्होंने मदद की है वह अभी भी अवश्य करेंगे, फिक्र की बात नहीं।
2) सदा खुशी रहे कि अभी हमारी वानप्रस्थ अवस्था है, हम वापस घर जा रहे हैं। आत्म-अभिमानी बनने की बहुत गुप्त मेहनत करनी है। कोई भी विकर्म नहीं करना है।

वरदान:- हर आत्मा को हिम्मत, उल्लास दिलाने वाले, रहमदिल, विश्व कल्याणकारी भव
कभी भी ब्राह्मण परिवार में किसी कमजोर आत्मा को, तुम कमजोर हो-ऐसे नहीं कहना। आप रहमदिल विश्व कल्याणकारी बच्चों के मुख से सदैव हर आत्मा के प्रति शुभ बोल निकलने चाहिए, दिलशिकस्त बनाने वाले नहीं। चाहे कोई कितना भी कमजोर हो, उसे इशारा या शिक्षा भी देनी हो तो पहले समर्थ बनाकर फिर शिक्षा दो। पहले धरनी पर हिम्मत और उत्साह का हल चलाओ फिर बीज डालो तो सहज हर बीज का फल निकलेगा। इससे विश्व कल्याण की सेवा तीव्र हो जायेगी।

स्लोगन:- बाप की दुआयें लेते हुए सदा भरपूरता का अनुभव करो।

Comments

comments