07 September 2017 Murli

English

Essence: Sweet children, this is a wonderful play about being worthy of worship and a worshipper, about knowledge and devotion. You now have to become satopradhan and worthy of worship once again and also end all signs of impurity.

Question: When the Father comes, what scales does He show you children?
Answer: The scales of knowledge and devotion. On one side of the scales is knowledge and on the other side is devotion. The side of knowledge is now light and that of devotion is heavy. Gradually, the side of knowledge will become heavy and then, in the golden age, there will be just one side of the scales. There is no need for scales there.

Essence for dharna: 
1. Engage this life of yours in the Father’s service. Become a bestower of a lot of happiness. If someone says wrong things, remain quiet. Become equal to the Father in removing everyone’s sorrow.
2. Check your own register. Imbibe divine virtues and become one with a good character. Remove all defects.

Blessing: May you move forward in your words and activities with manners as well as the truth and thereby become an image of success.
Always remember that the sign of truth is manners. Even if you have the power of truth, you must never let go of your manners. Prove the truth, but with manners. The sign of having manners is that you will be humble and the sign of not having manners is that you would be stubborn. When your words and activities are performed with good manners, you will then be successful. This is a means of moving forward. If you have truth but do not have manners, you cannot be successful.

Slogan: Remain light in your relationships, connections and stage, not in your daily timetable.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – यह पूज्य और पुजारी, ज्ञान और भक्ति का वन्डरफुल खेल है, तुम्हें अब फिर से सतोप्रधान पूज्य बनना है, पतितपने की निशानी भी समाप्त करनी है”
प्रश्न:- बाप जब आते हैं तो कौन सा एक तराजू बच्चों को दिखाते हैं?
उत्तर:- ज्ञान और भक्ति का तराजू। जिसमें एक पुर (पलड़ा) है ज्ञान का, दूसरा है भक्ति का। अभी ज्ञान का पुर हल्का है, भक्ति का भारी है। धीरे-धीरे ज्ञान का पुर भारी होता जायेगा फिर सतयुग में केवल एक ही पुर होगा। वहाँ इस तराजू की दरकार ही नहीं है।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) यह जीवन बाप की सेवा में लगानी है। बहुत-बहुत सुखदाई बनना है। कोई उल्टा-सुल्टा बोले तो शान्त रहना है। बाप समान सबके दु:ख दूर करने हैं।
2) अपने रजिस्टर की जाँच करनी है। दैवीगुण धारण कर चरित्रवान बनना है। अवगुण निकाल देने हैं।
वरदान:- सत्यता के साथ सभ्यता पूर्वक बोल और चलन से आगे बढ़ने वाले सफलतामूर्त भव
सदैव याद रहे कि सत्यता की निशानी है सभ्यता। यदि आप में सत्यता की शक्ति है तो सभ्यता को कभी नहीं छोड़ो। सत्यता को सिद्ध करो लेकिन सभ्यतापूर्वक। सभ्यता की निशानी है निर्माण और असभ्यता की निशानी है जिद। तो जब सभ्यता पूर्वक बोल और चलन हो तब सफलता मिलेगी। यही आगे बढ़ने का साधन है। अगर सत्यता है और सभ्यता नहीं तो सफलता मिल नहीं सकती।
स्लोगन:- सम्बन्ध-सम्पर्क और स्थिति में लाइट रहो – दिनचर्या में नहीं।

Comments

comments