20 July 2017 Murli

English

* 20-07-17 morning: Murli Om “Bāpadādā” Madhuban

*” sweet child -* you have never been work in studies, to be relentless, being relentless.

* Praśnaḥ -* you have the kids who just have a pledge and why?

* answer :-* you pledge that nobody will sorrow. Will tell all the way of happiness.

* Praśnaḥ -* which children’s cradle of sacrifice?

* the answer :-* those who consider themselves as trustees, I do everything with the whole heart. He also is in the homely behavior, but the trustee are trustee. So, like the treasures of the living.

* Songs :- you are mata…*

* Ohm Peace. *

Children have got father and now they say that there can be no flowers from barōbara thorns. India was the paristāna of divine flowers. Just the woods of thorns. You are the child who hear you hear the mahāvākyas, it is a to one of the to. His every one thing is great. Great happiness is the sea. Great knowledge is the sea. Great peace is the sea. The children have understood a good way, there were thorns in every thing. Each one of them gave a sense of sorrow. Now we pledge to do not hurt myself. Like Father, grief, happiness is the same way to be children. Nobody is giving sorrow, every one is to tell the way of sukhadhāma. Who don’t let it go all brhmakumariyan kumāriyām̐? On Ms.. Don’t have a from of Brahma. So they say to all – guru Brahma, Guru Vishnu, but the teacher is not called God. They are called the gods The Beats-Father can’t even say them. Baba has explained that the cosmic beats of the father is the versa of happiness. He will still remember the pāralaukika beats-Father. Will not miss brahma vishnu shankar. They will not say the father. They are the inhabitants of sūkṣmavatana. They are brahma dēvatā’ē num :, Vishnu Dēvatā’ē Namah: Who can’t say so many children. Laxmi Narayan in heaven can not say all the beats-Father. This pāralaukika beats-sing for the father. You are the lad, the boy… Bless you with lots of blessings. Now you know baby how many father bless or grace. Do not say that you may be āyuśvāna. It is the father who education the easy and knowledge. Blessings wa grace bhakti give lots in the way to give a two. Keep a good vision, God will not keep it. There is no one to see the gods. No, here is a school. Reading in school.

Just now you know he has come into this realize tan. Mom, grandfather, this family was not family, God’s family. So big school should be away from a little city. Also look at how far from the city. How silence is it because we need peace. We have to go. Śāntidhāma who is said, it is now you understand. The soul is so calm nature. The mind should have peace, can’t say. In the soul, it’s mind. Soul body is different. Don’t let the nose, ear etc. Peace let the soul. The whole part is filled in the soul, he is hour when the body found. The whole game is full in the soul. So much part in the little soul. The body is part of the body. This is still you know. Barōbara Devi is a part of 84 lives in the soul. It’s just you know, don’t know in satyug. It is just sung as a diamond amolak.. because you just became godly children. Mama Baba say na. Who used to sing in ajñānakāla – you beats father.. who is glory. It didn’t even know. You are enjoying the happiness of happiness in practical right now. Now he understood that the birth of birth came down. This is also nūm̐dha in drama. It is to be devotional, not to change. There is great content of devotion. Veda is unfathomable. The list will be a big list. What are you doing in all the world. How many fair are malākhaṛē etc. Now Father says children are tired of doing devotion. In this study, there is not tired of being tired, there is only happiness because it is here. Sometimes they should not have come to yawn. Conception is lighter, do not know the value of knowledge, he is lazy. In the memory of the father, there is a lot of earnings. It is not work. Vivek says you must be relentless. Efforts are to be able to achieve the karmātīta. Now who will work hard. The Rosary is so small. People are so much. Father, work hard. Say. Follow Father mother. Children are so pile na. There are ēḍāpṭēḍa baby brahma also I won’t say the children of living. There are souls that there are souls. In Ajñānakāla also say living. But who is living? What a part of them? It doesn’t know any one. Living say I have a part of drama. Not who I want to sleep. It will be the one who will be part. It is not the only thing for blessings. Father know how to tame children – knowledge and yoga. You have knowledge of knowledge and yoga. I only say baba because the creator is not created. Must say baba. The Cosmic parents also remember the pāralaukika father. Now you know pāralaukika beats-Father there. We are teaching the rajyog. Yes, the body is living all. It is explained for the sobriety. Unholy is not anyone eat. The rest of the house is to stay. Sarēnḍara ho gya na. Baba it’s all yours. Baba’s everything is going on, so he is the only thing that they eat. We are the trustee. We are the sacrifice of the sacrifice, she is satōguṇī. If you are not arpaṇamaya, he does not consider the trustee of the sacrifice. In the first, he has to be considered as trustees. Humans say that God is gonna give everyone. Gods worship. They think they get through the way. Meet the teacher, there are also understanding. But everyone is one of the same father. All the treasures is one. In Devotion, every single God has inaśyōra. Understand the other will be in birth. You do everything to baba. This is education, for the second birth. Good deeds are the fruits of good deeds. God do arpaṇam. God give a blessing to God. He is inaḍāyarēkṭa and it is direct. He may not know God, but he can not give everything. Here, let’s offer everything. The Father is called as trustees. Think of what you eat, we eat from the sacrifice of the living. They also have to watch. No one can put the dishes. Temple also looks pure dishes. He is a vaishnava. Airplanes are so all. Where did the best body come here? Lakshmi Narayan is the best body of lakshmi. Bhraṣṭācārī vikārī kō kahā jātā hai । Now you think the child is sitting before the father, which is called ādhākalpa. He will come here. Very sharp devotion. You have to lift the kids again tart. Not to be pleased with a little. How many points are given to explain. So do not understand so much. Then say baba who is just explain that the father is about to explain that the father. You are a devotee, he is God. Bhagavānuvāca – you remember me so you will come in my muktidhāma. Krishna will say – will come in my vaikuṇṭhadhāma. First to go in nirvāṇadhāma, must remember the father. Krishna also became dēhadhārī, remembering them as if the body of 5 elements should remember. It was so the devotion. Now you know how much detail is the Lord of devotion. In seconds this knowledge gets the versa of heaven. Day after the day and night after the day. Devotion is night. Dusting accounts don’t have name. Andhiyārī night. Even know the day of Brahma, the night of Brahma. Why not say for Vishnu. This knowledge is just to get you to the brahmins, so sung for Brahma. Brahma only know the day and night. Brahma know now the night is full, day to be. The day of brahmins and night. It’s not a matter of understanding. Vishnu will not say our night and day. You can say – from this knowledge we find so high, then it is missing the knowledge. In dramas this scriptures are also nūm̐dhē. Then he will become science, for which they say. He will come out of the earth. Father, the truth is the truth. This devotion is the contents of the way again. Let’s remember old mothers also, the upper one who lives in the hitting. Where souls live, he is in the sūkṣmavatana, and Brahma Vishnu Shankar. Then come in the macro country, the first of Lakshmi-Narayana is the state of lakshmi, which is creating the new creation father. It is also said to be a fool, but all the creation is patitōṁ and make them auspicious. Those who work hard will come in the holy world. The Original thing is to remember your father and home. Say, all these souls are now to go home, you have to go to the souls. The body will be all over. As the soul are all brothers. Brothers are brothers and sisters. Very Sweet-sweet things.

You’re in hostel here. You are in it. In Hostel, they do not get out of the outside. Here you are with the nirvikāriyōṁ. Good today is brahma food. Living don’t eat. He is so abhōktā. The Gods are good food, because the brahmins have become God’s food. So how much importance of the brahmins. They have a lot of effect. You have a good yogis, so the intellect may be very good. All day in memory of living, a svadarśana cycle phirātē food, such a yogi. Holy are so many. Widowed mother or kumāriyām̐ are also sacred. But also nuns. If you get a lot of food, you may have a lot of progress. 5-7 should be there. Later on you will be your stage. Yoga will help very much. Be a child who build food in yoga. * Nice!*

* Sweet-sweet children, children, Father and guḍamārniṅga. The Rouhani Father’s rouhani children namaste. *

* MAIN ESSENCE FOR CONCEPTION :-*

* 1 Beats Father, follow the knowledge of knowledge – yoga. To live in the crib. Knowledge is to be tart in yoga.

* 2)* Holy and nuns’s hand food food. A lot of food has to keep a lot of food.

* Blessing :-* Master to see the part of all the time in trikāladarśī situation.

Live in trikāladarśī position what we were, what are we, and what will happen…. this drama has been our special part. Such a clear experience that yesterday we were the gods and then become tomorrow. We got knowledge of three and. As if anyone sees all the cities in the top of the country, it is fun, such a saṅgamayuga is top point, and look at every part of it.

* slogan :-* they are always supporting them.

🌝

Hindi

*20-07-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन*

*”मीठे बच्चे -* तुम्हें पढ़ाई में कभी थकना नहीं है, अथक बनना है, अथक बनना अर्थात् कर्मातीत अवस्था को पाना”

*प्रश्नः-*तुम बच्चों ने अभी कौन सी प्रतिज्ञा की है और क्यों?

*उत्तर:-*तुमने प्रतिज्ञा की है कि किसको भी दु:ख नहीं देंगे। सबको सुख का रास्ता बतायेंगे।

*प्रश्नः-*किन बच्चों की पालना यज्ञ से होती है?

*उत्तर:-*जो अपने को ट्रस्टी समझते हैं अर्थात् पूरा दिल से सब कुछ सरेन्डर करते हैं। वह रहते भी गृहस्थ व्यवहार में हैं, धन्धा भी करते हैं लेकिन ट्रस्टी हैं। तो जैसे शिवबाबा के खजाने से खाते हैं।

*गीत:-तुम्हीं हो माता…*

*ओम् शान्ति।*

बच्चों को बाप मिला है और अब अनुभव से कहते हैं कि बरोबर काँटे से फूल और कोई बना नहीं सकते। भारत दैवी फूलों का परिस्तान था। अभी काँटों का जंगल है। तुम बच्चे अभी जो सुनते हो वह महावाक्य सुनते हो, यह सुनाने वाला ऊंच ते ऊंच बाप है ना। उनकी हर एक बात महान है। महान सुख का सागर है। महान ज्ञान का सागर है। महान शान्ति का सागर है। बच्चे अच्छी रीति समझ चुके हैं, आगे हर बात में काँटे थे। हर कर्मेन्द्रियों से एक दो को दु:ख ही देते थे। अब हम खुद ही कर्मेन्द्रियों से किसको दु:ख न देने की प्रतिज्ञा करते हैं। जैसे बाप दु:ख हर्ता सुख कर्ता है वैसे बच्चों को भी बनना है। कोई को भी दु:ख नहीं देना है, हर एक को सुखधाम का ही रास्ता बताना है। यह सब ब्रह्माकुमार कुमारियाँ किसकी मत पर चलते हैं? श्रीमत पर। ब्रह्मा की मत गाई हुई है। यूँ तो सभी को कह देते हैं – गुरू ब्रह्मा, गुरू विष्णु, परन्तु गुरू को फिर भगवान नहीं कहा जाता। उन्हों को देवता कहा जाता है। मात-पिता भी उनको नहीं कह सकते। बाबा ने समझाया है लौकिक मात-पिता से तो अल्पकाल सुख का वर्सा मिलता है। वह मिलते हुए भी फिर पारलौकिक मात-पिता को याद करते हैं। ब्रह्मा विष्णु शंकर को तो नहीं याद करेंगे। उनको मात-पिता नहीं कहेंगे। वे तो सूक्ष्मवतन वासी हैं ना। उनको ब्रह्मा देवताए नम:, विष्णु देवताए नम: कहते हैं। इतने सब बच्चे किसको मात-पिता कह न सकें। स्वर्ग में लक्ष्मी नारायण को भी सब मात-पिता नहीं कह सकते। यह पारलौकिक मात-पिता के लिए गाते हैं। तुम मात-पिता हम बालक तेरे… बहुत करके आशीर्वाद, कृपा बहुत मांगते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो बेहद का बाप कैसे आशीर्वाद अथवा कृपा करते हैं। ऐसे तो नहीं कहते हैं आयुश्वान भव, चिरन्जीवी भव। बाप तो आकर सहज राजयोग और ज्ञान की शिक्षा देते हैं। आशीर्वाद वा कृपा भक्ति मार्ग में ढेर देते हैं एक दो को। अच्छी दृष्टि रखना, दया दृष्टि रखना सो तो परमपिता परमात्मा के सिवाए कोई रख न सके। ऐसे नहीं कोई देखने से देवता बन जाते हैं। नहीं, यहाँ तो यह पाठशाला है। पाठशाला में पढ़ना होता है।

अभी तुम जानते हो वही निराकार इस साकार तन में आये हैं। मम्मा, बाबा, दादा यह कुटुम्ब हुआ ना, ईश्वरीय परिवार। इतनी बड़ी पाठशाला थोड़ा शहर से दूर होनी चाहिए। यहाँ भी देखो शहर से कितना दूर हैं। कितना सन्नाटा लगा हुआ है क्योंकि हमें चाहिए ही शान्ति। हमको जाना है शान्तिधाम। शान्तिधाम किसको कहा जाता है, यह अब तुम समझते हो। आत्मा तो है ही शान्त स्वरूप। मन को शान्ति चाहिए, ऐसे नहीं कह सकते। आत्मा में ही मन-बुद्धि है ना। आत्मा शरीर अलग-अलग है। नाक, कान आदि को शान्ति नहीं चाहिए। शान्ति चाहिए आत्मा को। आत्मा में ही सारा पार्ट भरा हुआ है, वह इमर्ज तब होता है जब शरीर मिले। आत्मा में ही सारा खेल भरा हुआ है। इतनी छोटी सी आत्मा में कितना पार्ट है। शरीर मिलने से ही वह पार्ट बजायेगी। यह भी अभी तुम जानते हो। बरोबर देवी-देवता धर्म वाली आत्मा में ही 84 जन्मों का पार्ट है। यह अभी तुम जानते हो, सतयुग में नहीं जानेंगे। इस समय ही गाया जाता है हीरे जैसा जन्म अमोलक.. क्योंकि तुम अभी ईश्वरीय औलाद बने हो। मम्मा बाबा कहते हो ना। अज्ञानकाल में जो गाते थे – तुम मात पिता.. यह किसकी महिमा है। यह भी नहीं जानते थे। तुम प्रैक्टिकल में अभी सुख घनेरे का वर्सा ले रहे हो। अभी समझते हो कि जन्म-जन्मान्तर शास्त्र पढ़ते भी नीचे ही उतरते आये। यह भी ड्रामा में नूँध है। भक्ति करनी ही है, न भक्ति बदलनी है, न ज्ञान बदलना है। भक्ति की बड़ी सामग्री है। वेद शास्त्र अथाह हैं। लिस्ट निकालो तो बड़ी लिस्ट हो जायेगी। सारी दुनिया में क्या-क्या कर रहे हैं। कितने मेले मलाखड़े आदि होते हैं। अब बाप कहते हैं बच्चे आधाकल्प भक्ति करते-करते थक गये हो। इस पढ़ाई में तो थकने की बात ही नहीं, इसमें तो और ही खुशी होती है क्योंकि यहाँ है कमाई। कमाई में कभी उबासी वा झुटके नहीं आने चाहिए। धारणा कच्ची है, नॉलेज की वैल्यु का पता नहीं है तो सुस्ती आती है। बाप की याद में बैठने से भी बहुत कमाई होती है। इसमें थकना नहीं है। विवेक कहता है तुमको अथक जरूर बनना है। पुरुषार्थ करते अथक अर्थात् कर्मातीत अवस्था को पाना है। अब जो पुरुषार्थ करेंगे। माला कितनी छोटी है। प्रजा तो बहुत बनती है। बाप तो पुरुषार्थ कराते रहते हैं। कहते हैं फालो फादर मदर। बच्चे तो ढेर हैं ना। प्रजापिता ब्रह्मा के भी एडाप्टेड बच्चे हैं ना। शिवबाबा के एडाप्टेड बच्चे नहीं कहेंगे। शिवबाबा के बच्चे अर्थात् आत्मायें तो हो ही। अज्ञानकाल में भी शिवबाबा कहते रहते हैं। परन्तु शिवबाबा कौन है? उनका क्या पार्ट है? यह कोई भी नहीं जानते हैं। शिवबाबा कहते हैं मेरा भी ड्रामा में पार्ट नूँधा हुआ है। ऐसे नहीं जो चाहूँ सो करूँ। हमारा भी जो पार्ट होगा वही चलेगा ना। इसमें कृपा वा आशीर्वाद माँगने की बात ही नहीं है। बाप जानते हैं कि बच्चों की पालना कैसे करनी है – ज्ञान और योग से। तुम्हारी पालना है ही ज्ञान और योग की। मुझे कहते ही हैं बाबा क्योंकि रचयिता ठहरा ना। तो जरूर बाबा कहेंगे। लौकिक माँ बाप होते हुए भी पारलौकिक बाप को याद करते हैं। अभी तुम जानते हो पारलौकिक मात-पिता ऐसे हुए हैं। हमको राजयोग सिखा रहे हैं। हाँ, शरीर निर्वाह तो सबको करना ही है। परहेज के लिए यह समझाया जाता है। अपवित्र कोई वस्तु नहीं खानी है। बाकी घर में तो रहना ही है। सरेन्डर हो गया ना। बाबा यह सब कुछ आपका है। बाबा का सब कुछ समझकर चलते हैं तो वह जो खाते हैं सो यज्ञ का ही है। हम ट्रस्टी हैं। हम यज्ञ का खाते हैं, वो तो सतोगुणी ही है। अगर अर्पणमय नहीं हैं, अपने को ट्रस्टी नहीं समझते तो फिर वह यज्ञ का नहीं हुआ। पहले तो अपने को ट्रस्टी समझना है। मनुष्य कहते भी हैं कि ईश्वर ही सबको देने वाला है। देवताओं की पूजा करते हैं। समझते हैं उन्हों द्वारा मिलता है। गुरू से मिलता है, ऐसे भी समझते हैं। परन्तु देने वाला सबको एक ही बाप है। सबका दाता एक है। भक्ति मार्ग में हर एक ईश्वर के पास ही इनश्योर करते हैं। समझते हैं दूसरे जन्म में मिलेगा। तुम भी सब कुछ बाबा के पास इनश्योर करते हो। यह शिक्षा मिलती है, दूसरे जन्म के लिए। अच्छे कर्मो का फल मिलता है। ईश्वर अर्पणम् करते हैं। ईश्वर को अर्पण अर्थात् इनश्योर करते हैं। वह है इनडायरेक्ट और यह है डायरेक्ट। वह परमपिता परमात्मा को जानते नहीं तो सब कुछ अर्पण नहीं कर सकते। यहाँ तो सब कुछ अर्पण करते हैं। बाप कहते हैं अपने को ट्रस्टी समझो। तुम जो खाते हो वह समझो हम शिवबाबा के यज्ञ से खाते हैं। सम्भाल भी करनी होती है। कोई तमोगुणी भोग लगा न सके। मन्दिर में भी शुद्ध भोग लगता है। वह वैष्णव ही रहते हैं। विकारी तो सभी हैं। निर्विकारी श्रेष्ठ शरीर यहाँ आये कहाँ से? लक्ष्मी-नारायण के श्रेष्ठ शरीर हैं ना। भ्रष्टाचारी विकारी को कहा जाता है। अभी तुम बच्चे समझते हो हम मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं, जिनको आधाकल्प पुकारा है। आधाकल्प भक्ति करने वाले ही यहाँ आयेंगे। बहुत तीखी भक्ति करते हैं। तुम बच्चों को फिर तीखा ज्ञान उठाना है। थोड़े में ही राज़ी नहीं होना है। कितनी प्वाइंट्स दी जाती हैं समझाने के लिए। बुढ़ियाँ तो इतना समझ न सकें। उनको फिर बाबा कहते हैं तुम किसको सिर्फ यह समझाओ कि पारलौकिक बाप का परिचय है तो उस बाप को याद करो। तुम भक्त हो, वह भगवान है। भगवानुवाच – तुम मेरे को याद करो तो तुम मेरे मुक्तिधाम में आ जायेंगे। कृष्ण कहेंगे – मेरे वैकुण्ठधाम में आ जायेंगे। पहले तो निर्वाणधाम में जाना है, तो जरूर निराकारी बाप को याद करना पड़े। कृष्ण भी देहधारी हो गया, उनको याद करना गोया 5 तत्वों के विनाशी शरीर को याद करना। यह तो भक्ति मार्ग हो गया। अब तुम बच्चे जान गये हो कि भक्ति का कितना विस्तार है। सेकेण्ड में इस ज्ञान से स्वर्ग का वर्सा मिल जाता है। दिन के बाद रात और रात के बाद दिन। भक्ति है रात। ठोकरें खाते हैं ना इसलिए नाम ही रखा है अन्धियारी रात। जानते भी हैं ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। विष्णु के लिए क्यों नहीं कहते। यह ज्ञान अभी मिलता ही तुम ब्राह्मणों को है, इसलिए ब्रह्मा के लिए गाया हुआ है। ब्रह्मा ही दिन और रात को जानते हैं। ब्रह्मा जानते हैं अब रात पूरी हुई, दिन होना है। ब्राह्मणों का दिन और रात। यह समझने की बात है ना। विष्णु ऐसे नहीं कहेंगे हमारी रात और दिन। तुम कह सकते हो – इस ज्ञान से ही हम इतनी ऊंची प्रालब्ध पाते हैं, फिर यह ज्ञान गुम हो जाता है। ड्रामा में यह शास्त्र आदि भी नूँधे हुए हैं। फिर वही शास्त्र बनेंगे, जिसके लिए कहते हैं परम्परा से चले आते हैं। ऐसे नहीं कि धरती से शास्त्र निकल आयेंगे। बाप आकर सत्य बतलाते हैं। यह भक्ति मार्ग की सामग्री फिर से वही निकलेगी। बूढ़ी माताओं को यह भी याद करा दो – ऊंचे ते ऊंच है शिवबाबा जो परमधाम में रहते हैं। जहाँ आत्मायें रहती हैं, वह है ऊंचा ठाँव मूलवतन फिर सूक्ष्मवतन में है ब्रह्मा विष्णु शंकर। फिर स्थूल वतन में आओ तो पहले लक्ष्मी-नारायण का राज्य है, जो नई रचना बाप रच रहे हैं, पतितों को पावन बना रहे हैं। कहते भी हैं पतित-पावन आओ तो जरूर सारी सृष्टि पतितों की है उनको आकर पावन बनाते हैं। जो मेहनत करेंगे वही पावन दुनिया में आयेंगे। मूल बात है अपने बाप और घर को याद करना। सबको यही कहो हे आत्मायें अब घर जाना है, तुम आत्माओं को ले जाना है। शरीर तो सबके खत्म हो जायेंगे। आत्मा के नाते सब भाई-भाई हैं। ब्रदर्स हैं फिर शरीर के नाते भाई-बहन हैं। बहुत मीठी-मीठी बातें हैं।

तुम यहाँ हॉस्टल में बैठे हो। तुम यहाँ के रहवासी हो। हॉस्टल में इसलिए रखते हैं कि बाहर का खराब संग न लगे। यहाँ तुमको निर्विकारियों का संग है। अच्छा आज तो ब्रह्मा भोजन है। शिवबाबा तो खाते नहीं हैं। वह तो अभोक्ता है। देवताओं को ब्राह्मणों का भोजन अच्छा लगता है क्योंकि इस ब्राह्मणों के भोजन से देवता बनते हैं। तो ब्राह्मणों के भोजन का कितना महत्व है। उनका बहुत असर पड़ता है। तुम्हें पक्के योगियों का भोजन मिले तो बुद्धि बहुत अच्छी हो जाए। सारा दिन शिवबाबा की याद में रहकर कोई स्वदर्शन चक्र फिराते भोजन बनाये, ऐसे योगी चाहिए। पवित्र तो बहुत होते हैं। विधवा माता अथवा कुमारियाँ भी पवित्र होती हैं। परन्तु योगिन भी हो। योगिन का भोजन मिले तो तुम्हारी बहुत उन्नति हो जाए। 5-7 ऐसे चाहिए। आगे चलकर तुम्हारी ऐसी अवस्था हो जायेगी। योग में बहुत मदद मिलेगी। ऐसे बच्चे हों जो योग में रहकर भोजन बनायें। *अच्छा!*

*मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।*

*धारणा के लिए मुख्य सार:-*

*1)* मात पिता को फालो करते हुए ज्ञान-योग से सबकी पालना करनी है। उसी पालना में रहना है। ज्ञान योग में तीखा जाना है।

*2)* पवित्र और योगिन के हाथ का भोजन खाना है। बुद्धि को शुद्ध बनाने के लिए भोजन की बहुत परहेज रखनी है।

*वरदान:-*त्रिकालदर्शी स्थिति में रह ड्रामा के हर समय के पार्ट को देखने वाले मास्टर नॉलेजफुल भव।

त्रिकालदर्शी स्थिति में स्थित रहकर देखो कि हम क्या थे, क्या हैं और क्या होंगे….इस ड्रामा में हमारा विशेष पार्ट नूंधा हुआ है। इतना स्पष्ट अनुभव हो कि कल हम देवता थे और फिर कल बनने वाले हैं। हमें तीनों कालों की नॉलेज मिल गई। जैसे कोई भी देश में जब टॉप प्वाइंट पर खड़े होकर सारे शहर को देखते हैं तो मजा आता है ऐसे संगमयुग टॉप पाइंट है, इस पर खड़े होकर नॉलेजफुल बन हर पार्ट को देखो तो बहुत मजा आयेगा।

*स्लोगन:-*जो सदा योगयुक्त हैं उन्हें सर्व का सहयोग स्वत: प्राप्त होता है।

🌝

Comments

comments