3 September 2017 Murli

English

Essence: Sweet children, you are all brothers and you have to live together with spiritual love. Become bestowers of happiness and give everyone happiness. Become those who pick up virtues.

Question: What is the reason for your not having spiritual love among yourselves? How can there be spiritual love?
Answer: When there is body consciousness, you look at the defects of one another, and so there isn’t spiritual love. When you become soul conscious and you have the concern to remove your defects, when your aim is to become satopradhan and you become very sweet and bestowers of happiness, there is then a lot of love among you. The Father’s shrimat is: Children, don’t look at anyone’s defects. Have the aim of becoming virtuous and of making others virtuous. The one Father has the maximum virtues. Continue to pick up virtues from the Father, renounce everything else and you will be able to interact with love.

Essence for dharna: 
1. Have such love for the Father that you always cling to the one Father. Day and night, only praise the Father. Melt with happiness.
2. Stay in the unadulterated remembrance of the one Father and become satopradhan. Never consider yourself to be very clever. Become as sweet as the Father.

Blessing: May you be a master creator and use the facilities instead of being influenced by them.
According to the drama, when the Father has a need for those facilities of science that are useful to you now, they are created by some people being touched. However, while using those facilities, do not be influenced by them. Never let the facilities pull you to them. Be a master creator and take benefit from the creation. If you become influenced by them, they will cause you sorrow and so let your spiritual endeavour continue while you use the facilities.

Slogan: In order to become a constant yogi, transform any limited “I” and “mine” into unlimited.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – तुम आपस में भाई-भाई हो, तुम्हें रूहानी स्नेह से रहना है, सुखदाई बन सबको सुख देना है, गुणग्राही बनना है”
प्रश्न:- आपस में रूहानी प्यार न होने का कारण क्या है? रूहानी प्यार कैसे होगा?
उत्तर:- देह-अभिमान के कारण जब एक दो की खामियां देखते हैं तब रूहानी प्यार नहीं रहता। जब आत्म-अभिमानी बनते हैं, स्वयं की खामियां निकालने का फुरना रहता है, सतोप्रधान बनने का लक्ष्य रहता है, मीठे सुखदाई बनते तब आपस में बहुत प्यार रहता है। बाप की श्रीमत है – बच्चे किसी के भी अवगुण मत देखो। गुणवान बनने और बनाने का लक्ष्य रखो। सबसे जास्ती गुण एक बाप में है, बाप से गुण ग्रहण करते रहो और सब बातों को छोड़ दो तो प्यार से रह सकेंगे।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) बाप से ऐसा लॅव रखना है – जो एक बाप से ही सदा चिटके रहें। दिन रात बाप की ही महिमा करनी है। खुशी में गदगद होना है।
2) एक बाप की अव्यभिचारी याद में रह सतोप्रधान बनना है। कभी भी मिया मिट्ठू नहीं बनना है। बाप के समान मीठा बनना है।
वरदान:- साधनों के वशीभूत होने के बजाए उन्हें यूज़ करने वाले मास्टर क्रियेटर भव
साइन्स के साधन जो आप लोगों के काम आ रहे हैं, ड्रामा अनुसार उन्हें भी टच तभी हुआ है जब बाप को आवश्यकता है। लेकिन यह साधन यूज़ करते हुए उनके वश नहीं हो जाओ। कभी कोई साधन अपनी ओर खींच न ले। मास्टर क्रियेटर बनकर क्रियेशन से लाभ उठाओ। अगर उनके वशीभूत हो गये तो वे दुख देंगे इसलिए साधन यूज़ करते भी साधना निरन्तर चलती रहे।
स्लोगन:- निरन्तर योगी बनना है तो हद के मैं और मेरेपन को बेहद में परिवर्तन कर दो।

Comments

comments