01 September 2017 Murli

English

Essence: Sweet children, if you want to become the masters of heaven, promise the Father that you will become pure and definitely become His helpers, that you will be His worthy child.

Question: For whom does a tribunal sit at the end in order for them to clear their accounts?
Answer: Who would file a case against those who kill so many with bombs in anger? This is why a tribunal sits for them at the end. Everyone settles their own karmic accounts and returns home.

Question: Who becomes worthy of going to the land of Vishnu?
Answer: 1) Those who live in the old world and yet do not attach their hearts to it. It remains in their intellects that they must now definitely become pure because they are to go to the new world.
2) It is this study that makes you worthy of going to the land of Vishnu. You study in this birth and receive a status in your next birth from this study.

Song: You are the Mother and Father.

Essence for dharna: 
1. Very little time remains; that is why you have to change from thorns into flowers, make everyone into flowers and show them the path to the land of peace and the land of happiness.
2. In order to go into the clan of Vishnu, perform good deeds. Definitely become pure. Remain constantly engaged on this spiritual pilgrimage and inspire others to do the same.

Blessing: May you be an accurate server who makes plans for service with a plain intellect.
An accurate server is one who does service of the self and service of all others at the same time. Let service of the self be merged in the service of all others. Let it not be that you serve others and become careless in serving yourself. In service, let service and yoga be simultaneous. For this, make plans for service with a plain intellect. A plain intellect means that nothing should touch your intellect except the consciousness of being an instrument and you have humility. Let there not be limited name and fame, but be humble. This is the seed of good wishes and pure feelings.

Slogan: Together with donating knowledge, also donate virtues and you will continue to be successful.

Hindi

“मीठे बच्चे – स्वर्ग का मालिक बनना है तो बाप से प्रतिज्ञा करो कि हम पवित्र बन, आपके मददगार जरूर बनेंगे। सपूत बच्चा बनकर दिखायेंगे”
प्रश्न:- किन्हों का हिसाब-किताब चुक्तू कराने के लिए पिछाड़ी में ट्रिब्युनल बैठती है?
उत्तर:- जो क्रोध में आकर बाम्ब्स से इतनों का मौत कर देते हैं, उन पर केस कौन करे! इसलिए पिछाड़ी में उनके लिए ट्रिब्युनल बैठती है। सब अपना-अपना हिसाब-किताब चुक्तू कर वापिस जाते हैं।
प्रश्न:- विष्णुपुरी में जाने के लायक कौन बनते हैं?
उत्तर:- जो इस पुरानी दुनिया में रहते भी इससे अपनी दिल नहीं लगाते, बुद्धि में रहता अब हमें नई दुनिया में जाना है इसलिए पवित्र जरूर बनना है। 2- पढ़ाई ही विष्णुपुरी में जाने के लायक बनाती है। तुम पढ़ते इस जन्म में हो। पढ़ाई का पद दूसरे जन्म में मिलता है।
गीत:- तुम्हीं हो माता…
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) समय बहुत थोड़ा है इसलिए कांटे से फूल बन सबको फूल बनाना है। शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बताना है।
2) वैष्णव कुल में जाने के लिए अच्छे कर्म करने हैं। पावन जरूर बनना है। सदा रूहानी यात्रा करनी और करानी है।
वरदान:- प्लेन बुद्धि बन सेवा के प्लैन बनाने वाले यथार्थ सेवाधारी भव
यथार्थ सेवाधारी उन्हें कहा जाता है जो स्व की और सर्व की सेवा साथ-साथ करते हैं। स्व की सेवा में सर्व की सेवा समाई हुई हो। ऐसे नहीं दूसरों की सेवा करो और अपनी सेवा में अलबेले हो जाओ। सेवा में सेवा और योग दोनों ही साथ-साथ हो, इसके लिए प्लेन बुद्धि बनकर सेवा के प्लैन बनाओ। प्लेन बुद्धि अर्थात् कोई भी बात बुद्धि को टच नहीं करे, सिवाए निमित्त और निर्माण भाव के। हद का नाम, हद का मान नहीं लेकिन निर्मान। यही शुभ भावना और शुभ कामना का बीज है।
स्लोगन:- ज्ञान दान के साथ-साथ गुणदान करो तो सफलता मिलती रहेगी।

Comments

comments