22 April 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, first check each one’s pulse and enable them to have faith in Alpha before proceeding any further. Unless they have faith in Alpha, it is a waste of your time to give them knowledge.

Question: Which main effort enables you to win a scholarship?
Answer: The effort of remaining introverted. You must remain very introverted. The Father is the Benefactor and He advises you for your own benefit. The yogi children who are introverted never become body conscious or sulk or fight with one another. Their behaviour is very royal and dignified. They speak very little and are interested in serving the yagya. Although they may not speak a lot of knowledge, they do service whilst in yoga.

Essence for dharna:
1. A lot of effort is needed for yoga. Try and see for how long you stay in remembrance of the Father while doing things. Only by staying in remembrance of Him can there be benefit. Remember the sweet Beloved with a lot of love. Keep a chart of your remembrance.
2. You need a refined intellect to understand the secrets of this drama. This drama is very beneficial. Whatever we say or do now we will repeat after 5000 years. Understand this accurately and remain happy.

Blessing: May you be constantly victorious and free from obstacles with the method of cleanliness and thereby make the fortress strong.
In order for every soul in this fortress to be constantly victorious and free from obstacles, have yoga programmes everywhere simultaneously at special times. Then, no one will be able to cut this string because the more you make service expand, the more Maya will try to make you belong to her. Therefore, as you adopt methods of cleanliness whenever you begin any task; similarly, collectively too, may all of you most elevated souls have just the one pure thought of becoming victorious. This is the method of cleanliness through which the fortress will become strong.

Slogan: The instant and practical fruit of yuktiyukt and accurate service is happiness.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – अपनी अवस्था देखो मेरी एक बाप से ही दिल लगती है या किसी कर्म सम्बन्धों से दिल लगी हुई है”
पश्न:- अपना कल्याण करने के लिए किन दो बातों का पोतामेल रोज देखना चाहिए?
उत्तर:- “योग और चलन” का पोतामेल रोज देखो। चेक करो कोई डिस-सर्विस तो नहीं की? सदैव अपनी दिल से पूछो हम कितना बाप को याद करते हैं? अपना समय किस प्रकार सफल करते हैं? दूसरों को तो नहीं देखते हैं? किसी के नाम-रूप से दिल तो नहीं लगी हुई है?
गीत:- मुखड़ा देख ले ………..
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) कोई भी कर्तव्य ऐसा नहीं करना है जिससे यज्ञ पिता की निंदा हो। बाप द्वारा जो राइटियस बुद्धि मिली है उस बुद्धि से अच्छे कर्म करने हैं। किसी को भी दु:ख नहीं देना है।
2) एक-दो से उल्टा-सुल्टा समाचार नहीं पूछना है, आपस में ज्ञान की ही बातें करनी हैं। झूठ, शैतानी, घर फिटाने वाली बातें यह सब छोड़ मुख से सदैव रत्न निकालने हैं। ईविल बातें न सुननी है, न सुनानी है।
वरदान:- सदा निजधाम और निज स्वरूप की स्मृति से उपराम, न्यारे प्यारे भव
निराकारी दुनिया और निराकारी रूप की स्मृति ही सदा न्यारा और प्यारा बना देती है। हम हैं ही निराकारी दुनिया के निवासी, यहाँ सेवा अर्थ अवतरित हुए हैं। हम इस मृत्युलोक के नहीं लेकिन अवतार हैं सिर्फ यह छोटी सी बात याद रहे तो उपराम हो जायेंगे। जो अवतार न समझ गृहस्थी समझते हैं तो गृहस्थी की गाड़ी कीचड़ में फंसी रहती है, गृहस्थी है ही बोझ की स्थिति और अवतार बिल्कुल हल्का है। अवतार समझने से अपना निजी धाम, निजी स्वरूप याद रहेगा और उपराम हो जायेंगे।
स्लोगन:- ब्राह्मण वह है जो शुद्धि और विधि पूर्वक हर कार्य करे।

Comments

comments