03 April 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, your present birth is your most valuable birth. It is in this birth that you have to make effort to become pure and become deities from ordinary human beings.

Question: What is the main dharna of those who call themselves the children of God?
Answer: They live with each other like milk and sugar. They never become like salt water. Body-conscious human beings talk about wrong things and continue to fight and quarrel. You children must not have such habits. Here, you have to imbibe divine virtues and reach your karmateet stage.

Essence for dharna:
1. Examine yourself and ask: How long do I stay in remembrance of the Father? To what extent have I imbibed divine virtues? Are there any defects in me? Are my food, drink, activity and behaviour royal? Do I talk about useless things? Do I tell lies?
2. In order to increase your chart of remembrance, practise considering yourselves to be souls, brothers. Stay away from body consciousness. Make time to make your stage constant and stable.

Blessing: May you be free from all attractions and remain constantly cheerful with the intoxication of being victorious.
The memorial of the jewels of victory is that the garland around the Father’s neck is worshipped even today. So, always have the intoxication that you are the victorious jewels that are the garland around Baba’s neck and that you are the children of the Master of the World; no one else can receive what we have received. Let this intoxication and happiness remain permanently and you will remain beyond any type of attraction. Those who are constantly victorious are always cheerful. Only be attracted by the attraction of remembrance of the one Father.

Slogan: To become lost in the depths of One means to be in solitude.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – यह तुम्हारा बहुत अमूल्य जन्म है, इसी जन्म में तुम्हें मनुष्य से देवता बनने के लिए पावन बनने का पुरूषार्थ करना है”
पश्न:- ईश्वरीय सन्तान कहलाने वाले बच्चों की मुख्य धारणा क्या होगी?
उत्तर:- वह आपस में बहुत-बहुत क्षीरखण्ड होकर रहेंगे। कभी लूनपानी नहीं होंगे। जो देह-अभिमानी मनुष्य हैं वह उल्टा सुल्टा बोलते, लड़ते झगड़ते हैं। तुम बच्चों में वह आदत नहीं हो सकती। यहाँ तुम्हें दैवीगुण धारण करने हैं, कर्मातीत अवस्था को पाना है।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) अन्दर अपनी जांच करनी है – हम बाप की याद में कितना समय रहते हैं? दैवीगुण कहाँ तक धारण किये हैं? हमारे में कोई अवगुण तो नहीं हैं? हमारा खान-पान, चाल-चलन रॉयल है? फालतू बातें तो नहीं करते? झूठ तो नहीं बोलते हैं?
2) याद का चार्ट बढ़ाने के लिए अभ्यास करना है – हम सब आत्मायें भाई-भाई हैं। देह-अभिमान से दूर रहना है। अपनी एकरस स्थिति जमानी है, इसके लिए टाइम देना है।
वरदान:- विजयीपन के नशे द्वारा सदा हर्षित रहने वाले सर्व आकर्षणों से मुक्त भव
विजयी रत्नों का यादगार-बाप के गले का हार आज तक पूजा जाता है। तो सदा यही नशा रहे कि हम बाबा के गले का हार विजयी रत्न हैं, हम विश्व के मालिक के बालक हैं। हमें जो मिला है वह किसी को भी मिल नहीं सकता-यह नशा और खुशी स्थाई रहे तो किसी भी प्रकार की आकर्षण से परे रहेंगे। जो सदा विजयी हैं वो सदा हर्षित हैं। एक बाप की याद के ही आकर्षण में आकर्षित हैं।
स्लोगन:- एक के अन्त में खो जाना अर्थात् एकान्तवासी बनना।

Comments

comments