28 March 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, you have to die a living death from this old world and your old body and return home. Therefore, renounce body consciousness and become soul conscious.

Question: What are the signs of the children who are very good effort-makers?
Answer: Those who are good effort-makers wake up early in the morning and practise being soul conscious. They make effort to remember the one Father. Their aim is not to remember bodily beings but constantly to remember the Father and the cycle of 84 births. This is such wonderful fortune!

Essence for dharna:
1. Instead of asking the Father for blessings, settle all your karmic accounts through the pilgrimage of remembrance. Make effort to become pure. Understand this drama accurately.
2. While seeing this old world, do not remember anything. Become a karma yogi. Practise remaining constantly cheerful. Never cry.

Blessing: May you be a constant yogi who has an attitude of being beyond (par vriti) while living in your household (pravruti).
The easy way to be a constant yogi is to have an attitude of being beyond while living in your household. “An attitude beyond” means the soul-conscious form. Those who remain stable in the soul-conscious form are always detached and loving to the Father. While doing anything, they feel that they haven’t done anything, but are just playing a game. By having the soul-conscious form while living in a household, they experience everything to be as easy as a game. It would not feel like a bondage. Together with love and co-operation, simply add the addition of power and you will take a high jump.

Slogan: Subtlety of the intellect and lightness of the soul are the personality of Brahmin life.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – तुम्हें इस पुरानी दुनिया, पुराने शरीर से जीते जी मरकर घर जाना है, इसलिए देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बनो”

प्रश्न:- अच्छे-अच्छे पुरूषार्थी बच्चों की निशानी क्या होगी?
उत्तर:- जो अच्छे पुरूषार्थी हैं वह सवेरे-सवेरे उठकर देही-अभिमानी रहने की प्रैक्टिस करेंगे। वह एक बाप को याद करने का पुरूषार्थ करेंगे। उन्हें लक्ष्य रहता कि और कोई देहधारी याद न आये, निरन्तर बाप और 84 के चक्र की याद रहे। यह भी अहो सौभाग्य कहेंगे।

धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) बाप से आशीर्वाद मांगने के बजाए याद की यात्रा से अपना सब हिसाब चुक्तू करना है। पावन बनने का पुरूषार्थ करना है। इस ड्रामा को यथार्थ रीति समझना है।
2) इस पुरानी दुनिया को देखते हुए भी याद नहीं करना है। कर्मयोगी बनना है। सदा हर्षित रहने का अभ्यास करना है। कभी भी रोना नहीं है।

वरदान:- प्रवृत्ति में रहते पर-वृत्ति में रहने वाले निरन्तर योगी भव
निरन्तर योगी बनने का सहज साधन है-प्रवृत्ति में रहते पर-वृत्ति में रहना। पर-वृत्ति अर्थात् आत्मिक रूप। जो आत्मिक रूप में स्थित रहता है वह सदा न्यारा और बाप का प्यारा बन जाता है। कुछ भी करेगा लेकिन यह महसूस होगा जैसे काम नहीं किया है लेकिन खेल किया है। तो प्रवृत्ति में रहते आत्मिक रूप में रहने से सब खेल की तरह सहज अनुभव होगा। बंधन नहीं लगेगा। सिर्फ स्नेह और सहयोग के साथ शक्ति की एडीशन करो तो हाईजम्प लगा लेंगे।

स्लोगन:- बुद्धि की महीनता अथवा आत्मा का हल्कापन ही ब्राह्मण जीवन की पर्सनैलिटी है।

Comments

comments