19 March 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, just as you souls have received thrones in the form of your bodies, in the same way, the Father, who has no throne of His own, is sitting on the throne of this Dada.

Question: What are the signs of those who are conscious of being God’s children?
Answer: They have true love for the one Father. God’s children never fight or argue with one another. They can never have impure vision. Since they have become Brahma Kumars and Kumaris, that is, they have become brothers and sisters, they cannot look at one another with impure vision.

Song: Leave your throne in the sky and come down to earth.

Essence for dharna:
1. Have mercy for yourself. Make your vision very good and pure. God has adopted you in order to change you from ordinary humans into deities. Therefore, you must never have any thought of becoming impure.
2. In order to attain a completely karmateet stage, constantly practise remaining beyond. Whilst seeing everything in this old world, do not see it. By constantly practising this, you will make your stage constant.

Blessing: May you be a master creator who gains victory over adverse situations by remaining stable on the seat of your original stage.
Any adverse situations come through matter and this is why adverse situations are the creation and one with the original stage is a creator. A master creator or a master almighty authority can never be defeated; it is impossible. Someone who leaves his own seat will be defeated. To leave your seat means to become powerless. You automatically receive power on the basis of your seat. Those who get off their seats are affected by the dust of Maya. BapDada’s beloved children who have died alive and are Brahmins by birth can never play in the dust of body consciousness.

Slogan: Determination melts (finishes) harsh sanskars like wax.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – जैसे तुम आत्माओं को यह शरीर रूपी सिंहासन मिला है, ऐसे बाप भी इस दादा के सिंहासन पर विराजमान हैं, उन्हें अपना सिंहासन नहीं”

प्रश्न:- जिन बच्चों को ईश्वरीय सन्तान की स्मृति रहती है उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उनका सच्चा लव एक बाप से होगा। ईश्वरीय सन्तान कभी भी लड़ेंगे, झगड़ेंगे नहीं। उनकी कुदृष्टि कभी नहीं हो सकती। जब ब्रह्माकुमार-कुमारी अर्थात् बहन-भाई बने तो गन्दी दृष्टि जा नहीं सकती।

गीत:- छोड़ भी दे आकाश ासिंहासन……..

धारणा के लिए मुख्य सार :-
1) अपने ऊपर आपेही रहम करना है, अपनी दृष्टि बहुत अच्छी पवित्र रखनी है। ईश्वर ने मनुष्य से देवता बनाने के लिए एडाप्ट किया है इसलिए पतित बनने का कभी ख्याल भी न आये।
2) सम्पूर्ण, कर्मातीत अवस्था को प्राप्त करने के लिए सदा उपराम रहने का अभ्यास करना है। इस दुनिया में सब कुछ देखते हुए भी नहीं देखना है। इसी अभ्यास से अवस्था एकरस बनानी है।

वरदान:- स्व-स्थिति की सीट पर स्थित रह परिस्थियों पर विजय प्राप्त करने वाले मास्टर रचता भव
कोई भी परिस्थिति, प्रकृति द्वारा आती है इसलिए परिस्थिति रचना है और स्व-स्थिति वाला रचयिता है। मास्टर रचता वा मास्टर सर्वशक्तिवान कभी हार खा नहीं सकते। असम्भव है। अगर कोई अपनी सीट छोड़ते हैं तो हार होती है। सीट छोड़ना अर्थात् शक्तिहीन बनना। सीट के आधार पर शक्तियाँ स्वत: आती हैं। जो सीट से नीचे आ जाते उन्हें माया की धूल लग जाती है। बापदादा के लाडले, मरजीवा जन्मधारी ब्राह्मण कभी देह अभिमान की मिट्टी में खेल नहीं सकते।

स्लोगन:- दृढ़ता कड़े संस्कारों को भी मोम की तरह पिघला (खत्म कर) देती है।

Comments

comments