18 March 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, do spiritual service and benefit yourself and others. Keep your heart true to the Father and you will be seated in the Father’s heart.

Question: Which children are able to make the effort to remain soul conscious? What are the signs of those who are soul conscious?
Answer: Those who have unbroken love for this study and the Father are able to make the effort to become soul conscious. They remain cool. They do not talk too much. They love the Father and their behaviour is very royal. They have the intoxication: God is teaching us that we are His children. They give happiness to others and take every step according to shrimat.

Essence for dharna:
1. In order to be loved by the Father, give a lot of happiness to others. Keep your words and behaviour very sweet and royal and become serviceable. Become egoless whilst doing service.
2. Never become a great sinner who commits suicide by leaving the Father and this study. Spiritual service is the main thing. Never tire of doing this service. Donate these jewels of knowledge. Don’t be a miser.

Blessing: May you be double light and close the gate to Maya with the awareness of being an instrument.
Those who always move along while considering themselves to be instruments automatically experience the stage of being double light. “Karankaravanhar is making me do everything and I am an instrument”: you achieve success by having this awareness. As soon as you have the consciousness of “I”, the gate to Maya opens, whereas when you consider yourself to be an instrument, the gate to Maya closes. By considering yourself to be an instrument you become a conqueror of Maya and you also become double light. Together with this, you also have success. This awareness becomes the basis of claiming number one.

Slogan: Perform every action while being trikaldarshi and you will easily continue to receive success.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – रूहानी सर्विस कर अपना और दूसरों का कल्याण करो, बाप से सच्ची दिल रखो तो बाप की दिल पर चढ़ जायेंगे”

प्रश्न:- देही-अभिमानी बनने की मेहनत कौन कर सकते हैं? देही-अभिमानी की निशानियाँ सुनाओ?
उत्तर:- जिनका पढ़ाई से और बाप से अटूट प्यार है वह देही-अभिमानी बनने की मेहनत कर सकते हैं। वह शीतल होंगे, किसी से भी अधिक बात नहीं करेंगे, उनका बाप से लव होगा, चलन बड़ी रॉयल होगी। उन्हें नशा रहता कि हमें भगवान पढ़ाते हैं, हम उनके बच्चे हैं। वह सुखदाई होंगे। हर कदम श्रीमत पर उठायेंगे।

धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) पिता स्नेही बनने के लिए बहुत-बहुत सुखदाई बनना है। अपना बोल चाल बहुत मीठा रॉयल रखना है। सर्विसएबुल बनना है। निरहंकारी बन सेवा करनी है।
2) पढ़ाई और बाप को छोड़कर कभी आपघाती महापापी नहीं बनना है। मुख्य है रूहानी सर्विस, इस सर्विस में कभी थकना नहीं है। ज्ञान रत्नों का दान करना है, मनहूस नहीं बनना है।

वरदान:- निमित्तपन की स्मृति से माया का गेट बन्द करने वाले डबल लाइट भव
जो सदा स्वयं को निमित्त समझकर चलते हैं उन्हें डबल लाइट स्थिति का स्वत: अनुभव होता है। करनकरावनहार करा रहे हैं, मैं निमित्त हूँ-इसी स्मृति से सफलता होती है। मैं पन आया अर्थात् माया का गेट खुला, निमित्त समझा अर्थात् माया का गेट बन्द हुआ। तो निमित्त समझने से मायाजीत भी बन जाते और डबल लाइट भी बन जाते। साथ-साथ सफलता भी अवश्य मिलती है। यही स्मृति नम्बरवन लेने का आधार बन जाती है।

स्लोगन:- त्रिकालदर्शी बनकर हर कर्म करो तो सफलता सहज मिलती रहेगी।

Comments

comments